Home >> Breaking News >> भारत-जापान का रिश्ता फेविकोल के जोड़ से भी मजबूतः मोदी

भारत-जापान का रिश्ता फेविकोल के जोड़ से भी मजबूतः मोदी


टोक्यो ,(एजेंसी) 03 सितम्बर । अपनी 5 दिन की यात्रा पूरी होने से पहले मंगलवार को आधिकारिक कार्यक्रम के समापन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत और जापान के रिश्ते को फेविकोल से भी मजबूत जोड़ की संज्ञा दे डाली। उन्होंने भारत के प्रति भरोसा दिखाने के लिए जापान का आभार जताया और यह कहकर जापान के साथ मजबूत दोस्ती का इजहार किया कि यह फेविकोल से भी ज्यादा मजबूत जोड़ है।

India Japan PM

मोदी ने कहा कि उन्हें सबसे ज्यादा खुशी इस बात की है कि जापान ने भारत पर भरोसा दिखाया है। जापान ने हिंदुस्तान एयरोनॉटिक्स सहित 6 भारतीय कंपनियों से प्रतिबंध हटाने का फैसला किया है। साल 1998 के परमाणु परीक्षणों के बाद जापान ने इन पर प्रतिबंध लगाया था।

जापानी पीएम शिंजो एबे के साथ अपनी शिखर वार्ता सफलतापूर्वक संपन्न होने के बाद मंगलवार का पूरा दिन भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जापानियों का दिल जीतने में बिताया। एक कुशल राजनीतिज्ञ मोदी ने जापान में बांसुरी और ड्रम के मामले में भी अपने कौशल का प्रदर्शन किया। साथ ही, उन्होंने नेताजी सुभाष चंद्र बोस के करीबी रहे 99 साल के साइचिरो मिसुमी से भी मुलाकात की।

मोदी ने जापान के भारतीय समुदाय को संबोधित करते हुए यह कहकर उनको हंसाया भी कि पहले हम सांप से खेलते थे, अब हम माउस से खेलते हैं। मोदी ने इस अवसर पर जापान में भारतीयों को सुझाव दिया कि वे भारत में अपने दोस्तों-रिश्तेदारों को लिखें कि वे साफ-सफाई अभियान में योगदान करें। उन्होंने भारत में पर्यटन को बढ़ाने के लिए प्रत्येक एनआरआई को कम से कम 5 परिवारों को हर साल भारत जाने के लिए प्रोत्साहित करने को कहा।

भारतीय समुदाय द्वारा उनके सम्मान में दिए गए भोज में मोदी ने कहा कि यह यात्रा काफी सफल रही। अब तक लाखों-करोड़ों या अरबों की बात होती थी, लेकिन कभी भी खरबों की बात नहीं हुई। यहां उनका संकेत जापान द्वारा अगले 5 साल में भारत को सार्वजनिक और निजी वित्तपोषण के जरिये 3,500 अरब यानी (35 अरब डॉलर या 2,10,000 करोड़ रुपये) उपलब्ध कराने के वादे की ओर था। यह राशि जापान स्मार्ट सिटी परियोजनाओं और गंगा नदी की सफाई आदि के लिए उपलब्ध कराएगा। मोदी ने उम्मीद जताई कि जापान ने 5 साल में 35 अरब डॉलर की अब तक की सबसे बड़ी राशि की मदद देने का जो वादा किया है उससे भारत के बुनियादी ढांचे में सुधार आएगा और साफ-सफाई बढ़ेगी।


Check Also

दुखद : दिल्ली में कोरोना से मरने वालों की संख्या 9342 पहुची

लंबे समय से कोरोना की मार से कराह रही राजधानी दिल्ली के लिए राहत की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *