Home >> Breaking News >> ‘मातोश्री’ जाने को लेकर अमित शाह का सस्पेंस

‘मातोश्री’ जाने को लेकर अमित शाह का सस्पेंस


मुंबई ,(एजेंसी) 04 सितम्बर । बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह का ‘मातोश्री‘ बंगले जाने का प्रोग्राम नहीं है। बीजेपी का कोई बड़ा नेता आए और ठाकरे परिवार के निवास न जाए यह बात शिवसेना को अखर रही है। हालांकि अमित शाह का मुंबई में गुरुवार को कई गणेश पंडालों में जाने का कार्यक्रम तय किया गया है। इसी के मद्देनजर शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे नें अपना अलग प्रोग्राम बना लिया है। वह ‘शिवसेना भवन’ में स्कूली बच्चों के लिए खास मोबाइल जारी करेंगे। इस मोबाइलों में ऐसे ऐप्लिकेशन होंगे, जिनमें आठवीं से लेकर दसवीं कक्षा तक का पूरा सिलेबस होगा। सूत्रों के अनुसार, उद्धव गुरुवार की शाम यह मोबाइल जारी कर सकते हैं।
amit-shah (1)

अटकलें यही है लगायी जा रही है कि ‘शिवसेना भवन’ में इसके लिए उद्धव प्रेस कांफ्रेंस बुला सकते हैं। चर्चा है कि अगर सुबह तक अमित शाह के मातोश्री आने का प्रोग्राम बनता है तो मोबाइल जारी करने के लिए आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस का समय एडजस्ट किया जा सकता है। पार्टी सूत्रों के अनुसार, बीजेपी को चिढ़ाने का उसका कोई इरादा नहीं है, मगर शिवसेना अध्यक्ष उनके लिए बैठे नहीं रह सकते।

राज्य दौरे पर निकले उद्धव बुधवार को शाहपुर का दौरा करके शाम को वापस लौटे। इसके बाद ही एकाएक मोबाइल जारी करने का प्रोग्राम आंका गया। शिवसेना आनेवाले चुनाव में इसे अपनी उपलब्धि के तौर पर रखना चाहेगी। उम्मीद की जा रही है कि उद्धव सत्ता में आने पर यह मोबाइल विद्यार्थियों को बेहद किफायती नाममात्र कीमत पर देने की घोषणा कर सकते हैं। मराठी के अलावा हिंदी, अंग्रेजी, उर्दू जैसी विविध भाषाओं में यह मोबाइल सिलेबस जारी करने की योजना है। बताया जाता है कि थोक में मोबाइल सेट की खरीद और सिलेबस डाउनलोड करने के बाद मोबाइल की कीमत अंदाजन 2000 रुपए बैठती है।

मुफ्त वाय-फाय सुविधा का उद्घाटन :
बोरिवली (पश्चिम) में मुफ्त वाय-फाय सुविधा का उद्घाटन बीजेपी सांसद गोपाल शेट्टी और विधानपरिषद में विपक्ष के नेता विनोद तावड़े के हाथों किया गया। दोनों नेताओं ने यह विश्वास व्यक्त किया कि बोरिवली म्यूनिसिपल ऑफिस के विविध कामों से लेकर नौकरी के ऐप्लिकेशन करने तक के लिए स्थानीय लोग इसका उपयोग कर सकेंगे।

6 सीटों से आरपीआई संतुष्ट नहीं :
दलित नेता रामदास आठवले की पार्टी आरपीआई को गठबंधन में 6 सीटें देने की पेशकश की गई है। चर्चा है कि कोलाबा, चेंबूर, पिंपरी, केज, गंगाखेड, चालीसगांव, उत्तर नागपुर और बालापुर विधानसभा सीटें बीजेपी साथी दल आरपीआई को छोड़ने के लिए तैयार हो गई है। बुधवार शाम आरपीआई प्रवक्ता अर्जुन डांगले ने बयान जारी करके चेतावनी दी है कि आंबेडकरी जनता की मांगों को नजरअंदाज किया जाता रहा तो मजबूरन पार्टी को दूसरे विकल्प चुनने पड़ेंगे।


Check Also

पंजाब में नौकरी पाने का सुनहरा मौका, ऐसे करे अप्लाई

NHM (नेशनल हेल्थ मिशन) पंजाब ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग में बी।एससी(नर्सिंग) तथा बीएएमएस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *