Home >> Breaking News >> ‘मोदी को इस्लाम के दुश्मन के तौर पर दिखाना चाहता है अल कायदा’

‘मोदी को इस्लाम के दुश्मन के तौर पर दिखाना चाहता है अल कायदा’


वॉशिंगटन ,(एजेंसी) 05 सितम्बर । अमेरिका के जाने-माने ऐंटि टेरर एक्सपर्ट ब्रूस रिडेल ने दावा किया है कि भारतीय उपमहाद्वीप के लिए अलग विंग बनाने की घोषणा करने वाला आतंकी संगठन अल कायदा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को इस्लाम धर्म और इसके मानने वालों के दुश्मन के रूप में पेश करना चाहता है। उन्होंने कहा कि भारत को इस पर गंभीरता से सोचना चाहिए। इस बीच, अमेरिकी सरकार ने अल कायदा की घोषणा के बारे में कहा है कि इस आतंकी संगठन द्वारा नई क्षमताएं विकसित करने का संकेत नहीं है।

Modi

अमेरिकी खुफिया एजेंसी सीआईए के पूर्व एक्सपर्ट ब्रूस रिडेल को अमेरिका का टॉप ऐंटिटेरर एक्सपर्ट माना जाता है। रिडेल ने कहा, ‘यह अल कायदा के सरगना अयमन अल जवाहिरी की ओर से जारी साल का पहला विडियो है और भारत को इसे बेहद गंभीरता से लेने की जरूरत है। अल कायदा भारतीय प्रधानमंत्री की छवि इस्लाम के दुश्मन के रूप में बनाना चाहता है।‘ उनका मानना है कि पाकिस्तान में इसका संचालन केंद्र और लश्कर-ए-तैयबा से इसके नजदीकी संबंध भारत के लिए काफी खतरनाक हैं।

रिडेल का सुझाव है कि भारत सरकार को अमेरिका और अफगानिस्तान के साथ आतंकवाद के खिलाफ साझेदारी को बढ़ाना चाहिए। नवंबर 2008 के मुंबई हमले के बाद भारत-अमेरिका के बीच आतंकवाद के खिलाफ सहयोग में काफी इजाफा हुआ है। ऐसा माना जा रहा है कि प्रधानमंत्री मोदी जब इस महीने के अंत में राष्ट्रपति बराक ओबामा से मिलने के लिए वॉशिंगटन यात्रा पर जाएंगे, तब दोनों देशों के बीच चर्चाओं में यह एक अहम मुद्दा होगा।

गौरतलब है कि जवाहिरी के ताजा विडियो में उसने भारत के कश्मीर, गुजरात और असम में जिहाद शुरू करने के लिए और पूरे उपमहाद्वीप में इस्लामी शासन और शरीयत लागू करने के लिए नया विंग खोलने की घोषणा की है। यू ट्यूब सहित विभिन्न सोशल मीडिया वेब साइटों पर डाले गए विडियो के मुताबिक जवाहिरी ने इस नए विंग का नाम ‘भारतीय उपमहाद्वीप में कायदात अल जिहाद’ नाम रखा है।

जवाहिरी के विडियो से पैदा सनसनी के बीच अमेरिका इसकी प्रामाणिकता और अल कायदा के नए विंग बनाने के दावे की जांच कर रहा है। विदेश मंत्रालय की उप-प्रवक्ता मेरी हार्फ ने मीडिया से बातचीत में कहा, ‘हम अब तक इस विडियो की जांच नहीं कर पाए हैं। स्वाभाविक तौर पर हम इसके बारे में और सूचनाओं का इंतजार कर रहे हैं।’

उन्होंने कहा, ‘हम इस घोषणा को अल कायदा की बढ़ती ताकत के रूप में भी नहीं देख रहे हैं।‘ हार्फ ने कहा कि अमेरिका अल कायदा के उन सभी ठिकानों को बर्बाद करने के लिए प्रतिबद्ध है, जिससे उसे खतरा हो सकता है। इस बीच, अमेरिकी नैशनल सिक्यॉरिटी काउंसिल की प्रवक्ता सी. हेडन ने कहा, ‘इस घोषणा को हम उस पूरे क्षेत्र में लंबे समय से सक्रिय रहे अल कायदा की नई क्षमताओं के संकेत के रूप में नहीं देखते।‘ उन्होंने कहा, ‘अमेरिका अल कायदा को निष्क्रिय करने के लिए प्रतिबद्ध है। हम यह सुनिश्चित करेंगे कि यह संगठन अमेरिकी जनता के लिए दोबारा खतरा न पैदा करे।’


Check Also

एक बार फिर से मीडिया की सूर्खियों में छाया हुआ है नागोर्नो कराबाख, जानें- इस बार बनी क्‍या वजह

नागोर्नो कराबाख एक बार फिर से मीडिया की सूर्खियों में छाया हुआ है। इस बार …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *