Home >> Breaking News >> हिम्मत है तो रोक कर दिखाओः योगी आदित्यनाथ

हिम्मत है तो रोक कर दिखाओः योगी आदित्यनाथ


लखनऊ ,(एजेंसी) 11 सितम्बर । गोरखपुर के सांसद योगी आदित्यनाथ, यूपी प्रदेश बीजेपी अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी और डुमरियागंज के सांसद जगदंबिका पाल पर चुनाव आचार संहिता के उल्लंघन का मामला दर्ज किया गया है। इन तीनों पर लखनऊ में जिला प्रशासन की रोक के बावजूद रैली करने का आरोप है।

Yogi adity nath

प्रशासन ने इस रैली के लिए अंतिम समय में अनुमति वापस ले ली थी लेकिन आदित्यनाथ ने सारे नियम-कानूनों की धज्जियां उड़ाते हुए इजाजत न मिलने के बावजूद रैली की। आदित्यनाथ की चार रैलियों को अनुमति नहीं दी गई थी और उन्हें चुनाव आयोग ने भी नोटिस भेजा गया था। इस पाबंदी की परवाह न करते हुए आदित्यनाथ लखनऊ के मुंशीपुलिया में रैली करने पहुंच गए। और एक ट्रक में बनाए गए मंच से रैली को संबोधित किया।

योगी आदित्यनाथ ने लखनऊ में बीजेपी प्रत्याशी के समर्थन में शहर के मुंशी पुलिया इलाके में सभा को संबोधित किया। इस दौरान ‘भारत माता की जय’, ‘गौ माता की जय‘ और ‘जय श्री राम’ के नारे भी लगाए। योगी व बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी ने मंच से चुनौती भी दी कि प्रशासन में हिम्मत है तो उन्हें रोक कर दिखाए। सभा के दौरान पूरा प्रशासनिक अमला तमाशाबीन बना रहा।

यूपी में उपचुनाव के लिए प्रचार कल थम जाएगा और यह आखिरी रैली थी। लिहाजा, इसके बाद चुनाव आयोग या प्रशासन कोई कार्रवाई करता भी रहे, आदित्यनाथ ने चुनावों में तो रैली का फायदा उठाने की अपनी कोशिश पूरी कर ही ली है। इस रैली में आदित्यनाथ के साथ बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मी बाजपेयी और दो सांसद और भी मौजूद थे।

आदित्यनाथ को भड़काऊ भाषण पर नोटिस:-

चुनाव आयोग की कड़ी आपत्ति के बावजूद इस रैली में भी आदित्यनाथ ने सांप्रदायिक मुद्दों पर बात की। उन्होंने कहा कि प्रशासन हमें इस आधार पर परेशान कर रहा है कि हम यूपी सरकार के सांप्रदायिक एजेंडे को आगे नहीं बढ़ने दे रहे। उन्होंने कहा, ‘लोगों को नोटिस इस आधार पर दिए जा रहे हैं कि लोग यूपी सरकार के सांप्रदायिक एजेंडे को आगे बढ़ा सकें। मुस्लिम कन्याओं को ही कन्या विद्या धन मिलेगा, हिंदू कन्याओं को नहीं। कब्रिस्तान की दीवार बनाकर सरकार एक ही संप्रदाय को खुश करने की कोशिश कर रही है। प्रशासन की इस तानाशाही के खिलाफ खड़ा होना होगा।‘

कांग्रेस बोली, देशद्रोही हैं आदित्यनाथ:-

योगी की सभा को लेकर दिन भर ऊहापोह की स्थिति बनी रही। प्रशासन कहता रहा कि सभा की अनुमति नहीं है, जबकि भाजपाई सभा होने की सूचना भेजते रहे। शाम 6 बजे तक एयरपोर्ट से लेकर मुंशीपुलिया तक अर्द्धसैनिक बलों से लेकर बड़ी संख्या में पुलिस तैनात की गई। लेकिन बीजेपी सांसद और प्रदेश अध्यक्ष को रोकने या हिरासत में लेने के बजाय प्रशासन ने उनके काफिले के लिए रास्ता साफ करवाया। योगी आदित्यनाथ और प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मीकांत वाजपेयी शाम 7 बजे मुंशी पुलिया पहुंचे। चुनाव आयेाग के पर्यवेक्षक व प्रशासन-पुलिस के आला अधिकारियों की मौजूदगी में वाजपेयी ने पहले सभा रोकने की कोशिशों के लिए प्रशासन को कोसा और फिर धमकी दी कि प्रशासन में हिम्मत हो तो हमें गिरफ्तार कर ले बाद में कायरों की तरह एफआईआर न कराना।


Check Also

कोरोना संकट : जयपुर राजघराना सादगी भरा जीवन जीने वाले पूर्व सांसद पृथ्वीराज सिंह का निधन

जयपुर राजघराने में भी खौफनाक कोरोना वायरस ने दस्तक दे दी है। इसकी वजह से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *