Home >> Exclusive News >> पी कश्यप की नजरें एशियाई खेलों में मेडल पर

पी कश्यप की नजरें एशियाई खेलों में मेडल पर


नई दिल्ली ,(एजेंसी ) 14 सितम्बर । पिछले तीन हफ्ते की कड़ी ट्रेनिंग से पारुपल्ली कश्यप का आत्मविश्वास बढ़ा है और कॉमनवेल्थ खेलों के इस गोल्ड मेडल विजेता ने कहा कि साउथ कोरिया के इंचियोन में होने वाले एशियाई खेलों में पदक जीतने के सपने को साकार करने के लिए उनकी नजरें लय बरकरार रखने पर टिकी हैं।

P kashyap

स्कॉटलैंड के ग्लास्गो में कॉमनवेल्थ खेलों का गोल्ड पदक जीतने के बाद कश्यप को विश्व चैम्पियनशिप में निराशा का सामना करना पड़ा जब वह पहले दौर में ही जर्मनी के दिएतर दोम्के से हारकर बाहर हो गए। इस भारतीय खिलाड़ी ने हालांकि कहा कि कोर्ट पर कड़ी मेहनत के बाद वह अपने खेल के शीर्ष पर हैं। कश्यप ने कहा, ‘पिछले कुछ दिनों से मेरा ट्रेनिंग सत्र काफी अच्छा रहा है। मैंने कड़ी ट्रेनिंग की और अब इस पूरे टूर्नामेंट के दौरान मुझे इस स्तर को बनाए रखना होगा। मैं अपने खेल को लेकर आश्वस्त हूं। मैं यह पदक जीतना चाहता हूं। मैं अपने देश के लिए और अपने लिए यह करना चाहता हूं।‘

उन्होंने कहा, ‘विश्व चैम्पियनशिप के लिए जाने से पहले मैं काफी ट्रेनिंग नहीं कर पाया और इसलिए पहले मैच के तीसरे गेम के दौरान मेरी फिटनेस में उतार-चढ़ाव आ रहा था। मैं धीमा था। इसलिए मैंने अगले दिन से ट्रेनिंग शुरू की और अब मैं काफी अच्छा महसूस कर रहा हूं और अपने खेल के शीर्ष पर हूं।‘

कश्यप ने कहा कि अपने खेल में लगातार सुधार करते रहना अहम है। उन्होंने कहा, ‘यह बेहद महत्वपूर्ण है कि अपने खेल में लगातार सुधार किया जाए और जिस विरोधी का आप सामना कर रहे हो उसके मुताबिक खेल में बदलाव किया जाए। आजकल हम एक दूसरे के खिलाफ इतना अधिक खेलते हैं कि कुछ नया करना अहम है। इसलिए खिलाड़ी मैच से पहले यूट्यूब पर एक दूसरे के मैच के विडियो देखते हैं और रणनीति बनाते हैं।‘

कश्यप ने कहा, ‘व्यक्तिगत स्पर्धा का ड्रॉ टीम चैम्पियनशिप के दौरान होगा। इसलिए मेरे पास अभी उन क्षेत्रों में काम करने का समय है जिनमें मैं पिछली बार विफल रहा था।‘ भारत को थामस कप में कोरिया के खिलाफ शिकस्त का सामना करना पड़ा था और एशियाई खेलों की पुरुष टीम स्पर्धा में भी भारत को सबसे पहले इसी देश से भिड़ना है और कश्यप ने कहा कि सिगंल्स खिलाडि़यों को अधिक जिम्मेदारी लेनी होगी।

उन्होंने कहा, ‘कोरिया के खिलाफ मुकाबला एक बार फिर कड़ा होगा। हमें तीनों एकल मैच जीतने होंगे क्योंकि उनके पास अच्छी डबल्स जोडियां हैं। हमने अपने ऊपर जिम्मेदारी लेनी होगी और डबल्स खिलाडि़यों पर दबाव नहीं डालना होगा।‘


Check Also

घमासान के बाद पंजाब के कांग्रेस विधायक बाजवा ने ठुकराया बेटे की नौकरी का आफर, सुनील जाखड़ व दो मंत्रियों पर साधा निशाना

कांग्रेस विधायक फतेह सिंह बाजवा ने अपने बेटे अर्जुन बाजवा को इंस्पेक्टर लगाने के ऑफर …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *