Home >> Breaking News >> चीन को उम्मीद,सुलझा लेंगे भारत से सीमा विवाद

चीन को उम्मीद,सुलझा लेंगे भारत से सीमा विवाद


नई दिल्ली, (एजेंसी) 23 सितम्बर । लद्दाख के चुमार इलाके में चीनी सैनिकों की घुसपैठ के बाद सेनाओं के आमने-सामने होने के बाद पहली टिप्पणी में चीनी रक्षा मंत्रालय ने संकेत दिया है कि आपसी बातचीत से मसले का हल निकल जाएगा। चीनी विदेश मंत्रालय ने यह भी कहा कि भारत-चीन सीमा मसले का मैत्रीपूर्ण तालमेल से राजनीतिक हल निकालने पर अहम सहमति बन चुकी है।
India China

चीनी पीपल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के बयान से भी संकेत मिलते हैं कि पीएलए के आला जनरलों की प्रेजिडेंट शी चिन फिंग के साथ इस बारे में बैठक हुई है। हालांकि इसका सीधा जिक्र नहीं किया गया है। इस बैठक के बाद चीनी सेना का यह कहना अहम है कि नए हालात में मिलिटरी कमांड की सक्षमता बढ़ाने पर विचार किया गया। चीनी जनरलों को निर्देश दिया गया है कि केंद्रीय नेतृत्व के सभी निर्देशों का पूरी तरह पालन हो।

हालांकि चीनी राष्ट्रपति के निर्देशों के बाद भी इन सैनिकों का न हिलना सवाल भी खड़े करता है। चुमार के ताजा हालात को देखते हुए आर्मी चीफ जनरल दलबीर सिंह सुहाग ने भूटान का अपना चार दिनों का दौरा रद्द कर दिया है।

चीनी सेना ने कहा कि वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भिन्न मान्यता है, लेकिन दोनों पक्ष इस मसले को बातचीत से सुलझा सकते हैं। चीनी पीएलए के प्रवक्ता ने घुसपैठ के मसले को तूल नहीं देते हुए कहा कि दोनों पक्ष नजदीक की आर्थिक साझेदारी चाहते हैं और यह मानते हैं कि इस साझेदारी को सफल होने के लिए सीमा पर शांति व स्थिरता अहम गारंटी साबित होगी।
चीनी विदेश मंत्रालय ने कहा कि राष्ट्रपति शी के भारत दौरे से कुछ गलतफहमियां दूर हुई हैं और इस बातचीत के दौरान सीमा मसले के राजनीतिक हल के लिए अहम सहमति बन चुकी है। इससे दोनों देशों के रिश्ते नए दौर में पहुंचेंगे।

लेकिन भारत-चीन सेमिनार रद्द

चीन के प्रतिष्ठित दैनिक ग्लोबल टाइम्स और अन्य चीनी मीडिया ग्रुप के टॉप जर्नलिस्ट्स और भारत के सीनियर पत्रकारों के साथ यहां मंगलवार से होने वाले मीडिया एक्सचेंज प्रोग्राम के तहत तीन दिनों तक चलने वाले सेमिनार को भारत सरकार ने रद्द करवा दिया है। चीन के ग्लोबल टाइम्स फाउंडेशन और भारतीय विचार संस्था आब्जर्वर रिसर्च फाउंडेशन तीन महीने से इसकी तैयारी कर रहे थे। लेकिन गत शुक्रवार को ही विदेश मंत्रालय ने जानकारी दी कि सेमिनार को मंजूरी नहीं मिली है।

हालांकि चीनी संपादकों को भारत दौरे का वीजा मिल चुका था। सरकार के इस फैसले को लद्दाख के चुमार इलाके में चीनी सेना की घुसपैठ से जोड़ कर देख रहे हैं। ग्लोबल टाइम्स चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के मुखपत्र पीपल्स डेली से जुड़ा है। मीडिया के बीच इस तरह के मेलजोल रोकने पर यहां राजनयिक हलकों में हैरानी जाहिर की जा रही है।


Check Also

दुखद : अफगानिस्तान में एक कार धमाके में 26 अफगान सुरक्षाबलों की मौत

अफगानिस्तान में एक कार धमाके में 26 अफगान सुरक्षाबलों की मौत हो गई है। अधिकारियों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *