Home >> Breaking News >> सूफी इमाम ने कहा, राक्षसों के मनोरंजन का साधन है गरबा

सूफी इमाम ने कहा, राक्षसों के मनोरंजन का साधन है गरबा


अहमदाबाद, (एजेंसी) 23 सितम्बर । नवरात्रि के दौरान होने वाले गरबा कार्यक्रमों को लेकर गुजरात के एक सूफी इमाम ने विवादास्पद बयान दिया है। सूफी इमाम मेहदी हुसैन ने कहा है कि गरबा को राक्षसों ने अपने कब्जे में ले लिया है, और यह उनके मनोरंजन का साधन है।

Sufi Imama Mehndi hasan

यह वही इमाम हैं जिन्होंने 2011 में गुजरात के तत्कालीन सीएम नरेंद्र मोदी को मुस्लिम टोपी पहनने के लिए दी थी और मोदी ने टोपी पहनने से इनकार कर दिया था।

खेड़ा गांव के इमाम हुसैन ने कहा कि ‘गरबा कोई धार्मिक त्योहार नहीं है बल्कि राक्षसों के लिए मनोरंजन का एक साधन है। उन्होंने कहा कि साधु और संत गरबा में नजर नहीं आते। इनमें फिल्म ऐक्टर्स और आपराधिक पृष्ठचभूमि के लोग भड़काऊ कपड़ों में नाचते नजर आते हैं।‘

मोदी जब वाराणसी से लोकसभा चुनाव लड़ रहे थे, तब मेहदी हुसैन उनके खिलाफ प्रचार करने के लिए बनारस गए थे। लव जिहाद के बारे में इमाम ने कहा कि कहा जाता है कि साढ़े चार लाख हिंदू लड़कियों को मुस्लिम लड़के बहका रहे हैं। कोई कहता है कि गरबा आयोजनों में मुस्लिमों की एंट्री बैन होनी चाहिए। धार्मिक त्योहारों को लेकर इस तरह की बातें करना क्या ठीक है?

गोधरा में एक हिंदू संगठन ने गरबा आयोजकों को ऐसे समारोह में मुस्लिम युवकों के आने पर रोक लगाने का फरमान सुनाया था। उसके बाद से श्लव जिहादश् को रोकने के लिए गरबा कार्यक्रमों में मुस्लिम युवकों के हिस्सा लेने पर रोक की मांग तेज हो गई।

वीएचपी ने की गिरफ्तारी की मांग

विश्व हिंदू परिषद ने इमाम के इस बयान की आलोचना की है और उनको अरेस्ट करने की मांग की है। गुजरात वीएचपी के महासचिव रणछोड़ भारवाड़ ने कहा कि उस इमाम को अरेस्ट किया जाना चाहिए। अगर ऐसा नहीं हुआ तो वे लोग खुद उन्हें पुलिस के हवाले कर देंगे।


Check Also

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने केंद्र से कृषि कानूनों को वापस लेने का किया आग्रह

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने मंगलवार को केंद्र से किसानों की मांगों को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *