Home >> Breaking News >> बीजेपी-शिवसेना के बीच अब भी नहीं बनी बात

बीजेपी-शिवसेना के बीच अब भी नहीं बनी बात


मुंबई ,(एजेंसी)24 सितम्बर । महाराष्ट्र विधानसभा चुनावों को लेकर बीजेपी-शिवसेना नीत श्महायुतिश् की समस्याएं अब भी समाप्त नहीं हुई हैं। मंगलवार को शुरुआती संकेत मिले कि बीजेपी और शिवसेना के बीच सीटों को लेकर चल रहे रार पर विराम लग जाएगी। लेकिन देर रात तक चली धुंआधार बैठकों का कोई खास परिणाम निकल कर सामने नहीं आया। मंगलवार रात तक यह गठबंधन सीट बंटवारे को लेकर मतभेदों को सुलझाने में विफल रहा ।

Shiv Sena

छोटे दल उन्हें की गई काफी कम सीटों की पेशकश पर असहमति जता रहे हैं। छह विपक्षी दलों के गठबंधन में मतभेदों के समाधान में उस समय रोडा आ गया जब खबर आई कि शिवेसना हालांकि भाजपा की 130 सीटों की मांग पर सहमत है, लेकिन उसने 151 सीटों की अपनी मांग से पीछे हटने से इनकार कर दिया। इस तरह छोटे सहयोगी दलों के लिए केवल सात सीटें ही बचती हैं।

सूत्रों का कहना है कि शिवसेना के इस फॉर्म्युले पर छोटे दलों के साथ-साथ बीजेपी भी सहमति नहीं जता रही है। बीजेपी का कहना है कि वह अन्य सहयोगियों से बात कर कोई फैसला लेगी।

शिवसेना और बीजेपी के सीनियर नेताओं ने मंगलवार दोपहर बाद एक बैठक के बाद घोषणा की कि दोनों दलों ने गठबंधन जारी रखने का फैसला किया है और सीट बंटवारे पर फैसला बाद में अन्य गठबंधन सहयोगियों के साथ बैठक में किया जाएगा।
इसके बाद महायुति के नेताओं ने बुधवार रात यहां बांद्रा स्थित एक होटल में बैठक की, लेकिन तीन घंटे तक चली चर्चा, जो आधी रात तक चली, के बावजूद सीट बंटवारे के फॉर्म्युले पर कोई अंतिम घोषणा नहीं हो पाई। आरपीआई (ए), आरएसपी, एसएसपी और शिवसंग्राम दलों के नेताओं ने नए फॉर्म्युले का कड़ा विरोध किया और अधिक सीटों की मांग की जिससे गतिरोध खड़ा हो गया।

आरपीआई नेता रामदास अठावले, आरएसपी के माधव जनकर, एसएसपी के राजू शेट्टी और शिवसंग्राम के नेता विनायक मेटे बातचीत से बीच में ही उठकर चले गए। शिवसेना के प्रवक्ता एवं सांसद संजय राउत ने बाद में कहा कि मतभेदों को दूर करने के लिए बुधवार को भी बैठकें होंगी।


Check Also

बीजेपी ही बंगाल में अगली सरकार बनाएगी नंदीग्राम में शुभेंदु अधिकारी कम से कम पचास हजार वोटों से जीतेंगे : कैलाश विजयवर्गीय

पश्चिम बंगाल में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले पीएम मोदी आज फिर बंगाल दौरे …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *