Home >> Breaking News >> मुख्यमंत्री ने दिए बिजली दरें बढ़ने के संकेत

मुख्यमंत्री ने दिए बिजली दरें बढ़ने के संकेत


लखनऊ ,(एजेंसी) 30 सितम्बर । प्रदेश में बिजली दरें जल्द बढ़ सकती हैं। मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने राज्य विद्युत नियामक आयोग के भवन के शिलान्यास के मौके पर इस बात के संकेत दे दिए। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में दूसरे कई राज्यों के मुकाबले बिजली दर कम है।

Akhilesh Yadav

उन्होंने कहा कि आंकड़ों के मामले में जो राज्य काफी विकसित हैं, उन राज्यों में भी बिजली दर उत्तर प्रदेश के मुकाबले काफी ज्यादा है। कार्यक्रम के दौरान प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक भी मौजूद थे। राज्यपाल ने राज्य विद्युत नियामक आयोग के नए भवन का शिलान्यास किया जो कि 2016 में बनकर तैयार हो जाएगा।

इस मौके पर राज्यपाल राम नाईक ने कहा कि प्रदेश में बिजली चोरी बहुत ज्यादा है। इसे रोकने के लिए कड़े कदम उठाए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 32.27 प्रतिशत लाइन लॉस है, जबकि महाराष्ट्र में 16.27 प्रतिशत और केरल में 11.6 प्रतिशत का लाइन लॉस है। उन्होंने कहा कि बिजली चोरी करने वाला आम आदमी नहीं, बल्कि बड़ा आदमी होता है।
राज्यपाल ने ऐसे लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की वकालत करते हुए कहा कि ऐसे लोगों को चैराहे पर खड़ा कर सजा दी जानी चाहिए। किल्लत दूर करने के लिए उन्होंने कहा कि लाइन लॉस कम करना बहुत जरूरी है।

कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने माना कि प्रदेश में अगर बिजली की आपूर्ति अच्छी रहेगी। तभी वो दोबारा सत्ता में आएंगे। वीवीआईपी जिलों में हो रही ज्यादा बिजली सप्लाई की सच्चाई मानते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इन जिलों में ज्यादा बिजली सप्लाई की जाती है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कनेक्शन देने की बारी आई, तो उन्होंने सबसे पहले इसकी शुरुआत इटावा से ही की, ताकि बिजली चोरी पर लगाम लगाई जा सके।

इस मौके पर राज्य विद्युत नियामक आयोग के चेयरमैन देश दीपक वर्मा, सदस्य आईबी पांडे और प्रमुख सचिव ऊर्जा संजय अग्रवाल समेत बड़ी संख्या में नियामक आयोग और पावर कॉरपोरेशन के अधिकारी मौजूद थे।

बिना नाम लिए केन्द्र पर साधा निशाना

प्रदेश में बिजली की किल्लत को लेकर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने बिना नाम लिए ही केन्द्र पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि प्रदेश में जल विद्युत का उत्पादन ज्यादा नहीं हो सकता है। इसलिए पूरी निर्भरता कोयले पर ही है। उन्होंने कहा कि अगर पर्याप्त कोयला मिले, तो प्रदेश में बिजली की मांग और सप्लाई के बीच का अंतर कम हो सकता है। मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश में न्यूक्लियर पावर प्लांट के लिए केन्द्र सरकार को पत्र लिखा गया है।

इंजीनियरों को सुधरने की दी ताकीद

कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री ने इंजीनियरों को व्यवहार सुधारने की नसीहत भी दे डाली। उन्होंने कहा कि इंजीनियरों को भाषा और व्यवहार सुधारना चाहिए। ताकि भविष्य में कटियाबाज जैसी फिल्में न बनें।

नाइक आशीर्वाद रहा

कार्यक्रम के दौरान एक मौका ऐसा आया , जब राज्यपाल ने पूछा कि प्रदेश में विधानसभा चुनाव कब हैं। राज्यपाल के इस सवाल पर मुख्यमंत्री अखिलेश यादव थोड़े मजाकिया लहजे में आ गए। उन्होंने कहा कि अगर आपका आशीर्वाद रहा , तो प्रदेश में विधानसभा चुनाव 2017 में ही होंगे। मुख्यमंत्री के इतना बोलने पर पूरे हॉल में लोग हंसने लगे।


Check Also

पंजाब में नौकरी पाने का सुनहरा मौका, ऐसे करे अप्लाई

NHM (नेशनल हेल्थ मिशन) पंजाब ने स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग में बी।एससी(नर्सिंग) तथा बीएएमएस …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *