Home >> इंटरनेशनल >> रिलायंस-एयरसेल मर्जर का रास्ता साफ, स्पेक्ट्रम के मामले में होगी नंबर-2 कंपनी

रिलायंस-एयरसेल मर्जर का रास्ता साफ, स्पेक्ट्रम के मामले में होगी नंबर-2 कंपनी


कंपनी ने कहा है कि स्पेक्ट्रम के मामले में यह विलय इकाई (Merged Entity) दूसरी सबसे बड़ी कंपनी होगी.

RCom ने कहा है, ‘विलाए इकाई 65 हजार करोड़ रुपये के ऐसेट बेस और 35 हजार करोड़ रुपये नेट वर्थ के साथ यह भारत की सबसे बड़ी टेलीकॉम कंपनियों में से एक होगी’

रिलायंस कम्यूनिकेशन के मुताबिक एयरसेल के साथ विलय से देश में एक मजबूत टेलीकॉम ऑपरेटर बनेगा जो भारत की टॉप-4 टेलीकॉम कंपनियों में शामिल होगा.

रिलायंस कम्यूनिकेशन ने सोमवार को ऐलान किया है कि ज्यादातर शेयरहोल्डर्स ने कंपनी के वायरलेस बिजनेस को एयरसेल के डी मर्ज करने के लिए अप्रूवल दे दिया है.

गौरतलब है कि R-Com ने एयरसेल के साथ मर्जर के लिए पहले अपने टेलीकॉम बिजनेस को डी-मर्ज यानी अलग किया. विलय के बाद R-Com और एयरसेल दोनों कंपनियां 50 फीसदी शेयर रखेंगी और साथ ही बोर्ड ऑफ डायरेक्टर में बराबर शेयर होंगे.

कंपनी ने नेशनल स्टॉक एस्चेंज फाइलिंग में कहा है, ‘रिलायंस कंप्यूनिकेशन लिमिटेड के 99.99 फीसदी शेयर धारकों ने मीटिंग के दौरान कंपनी के वायरलेस डिविजन और रिलायंस टेलीकॉम लिमिटेड को एयरसेल लिमिटेड और डिशनेट वायरलेस लिमिटेड के साथ डी मर्ज करने की अनुमति दे दी है.’

दोनों कंपनियों के शेयर धारकों की मंजूरी के बाद RCom ने कहा है कि कंपनी के पास पहले से ही सिक्योरिटी और एक्सचेंज बोर्ड ऑफ इंडिया का अप्रूवल है.


Check Also

RBI ने प्राइवेट सेक्टर के एक्सिस बैंक पर KYC नियमों के पालन में ढिलाई को लेकर 25 लाख रुपये की लगाई पेनल्टी

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने प्राइवेट सेक्टर के एक्सिस बैंक पर KYC नियमों के पालन …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *