Tuesday , 21 September 2021
Home >> बिज़नेस >> 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट का होगा ऐसा इस्तेमाल, जानिए कैसे

500 और 1000 रुपए के पुराने नोट का होगा ऐसा इस्तेमाल, जानिए कैसे


नई दिल्‍ली। भारत सरकार ने बीते साल 500 और 1000 रुपए के पुराने नोटों पर बैन लगाने का फैसला किया था। इसके बाद कई नोट कूढ़े के ढेर में मिले। आपको यह जानकर हैरानी होगी कि 500 और 1000 रुपए के पुराने नोटों की रद्दी का बेहतर उपयोग किया जा सकता है। इन्‍हें रिसाइकल कर कई उपयोगी चीजें बनाई जा सकती हैं। नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजाइन (एनआइडी) के स्टूडेंट्स इन दिनों स्क्रैप किए गए करंसी नोटों से उपयोगी उत्पादों को विकसित करने में जुटे हुए हैं।

यह प्रोजेक्‍ट भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा एनआइडी को दिया गया है। बैंक ने 200 किलो पुराने नोटों के ब्रिकेट (संकुचित सामग्री के ब्लॉक) इंस्‍टीट्यूट को भेज दिया है। अगर स्टूडेंट्स इन पुराने करंसी नोटों की रद्दी से कुछ उपयोगी चीजें बना लेते हैं तो उन्‍हें पुरस्कार राशि के रूप में 50,000 व 75,000 और एक लाख रुपए दिए जाएंगे।

एनआईडी के फर्नीचर और इंटीरियर डिजाइन कोर्स के कोऑर्डिनेटर प्रविनीश सोलंकी ने बताया कि इसके लिए संस्‍थान ने मई के आखिरी सप्‍ताह में एक ऑल इंडिया लेवल पर स्पर्धा रखी है। स्‍क्रैप नोटों के बारे में बताते हुए सोलंकी ने कहा, ‘ये करेंसी नोट नष्‍ट कर दिए गए थे अब ये स्‍क्रैप बन गए हैं। अब सरकार इनका बेहतर इस्‍तेमाल करना चाहती है। इसलिए हमें ये प्रोजेक्‍ट दिया है।’

उन्‍होंने आगे कहा, ‘सरकार इस बात से अवगत है कि हमें संसाधनों को बर्बाद नहीं करना चाहिए। वैसे भी उन नोटों डिजाइन के साथ-साथ कागज और मुद्रण सामग्री भी बहुत पुरानी हो गई थी।

एनआइडी अब इन स्‍क्रैप में बदल चुके पुराने नोटों से कुछ डिजाइन करने जा रहा है, जो समाज के लिए उपयोगी हो सकता है। साथ ही दूसरों को भी ऐसा करने के लिए प्रेरित कर सकता है। सोलंकी ने हालांकि कहा कि यह कहना अभी जल्‍दबाजी होगा कि इनसे किस तरह के उत्पाद बनाए जाएंगे। लेकिन हम आशा करते हैं कि इनसे कुछ ऐसी उपयोगी चीजें डिजाइन होकर सामने आएं, जिससे वातावरण को लाभ पहुंचे और हरियाली फैले।


Check Also

महंगाई की मार के साथ हुआ सितंबर माह का आगाज़, सरकारी तेल कंपनियों ने घरेलू LPG सिलेंडर की कीमतों में एक बार फिर किया इजाफा

सितंबर माह का आगाज़ महंगाई की मार के साथ हुआ है. सरकारी तेल कंपनियों ने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *