Home >> Breaking News >> अगर हरियाणा नंबर वन है, तो कांग्रेस तीसरे स्थान पर क्यों: शैलजा

अगर हरियाणा नंबर वन है, तो कांग्रेस तीसरे स्थान पर क्यों: शैलजा


चंडीगढ , (एजेंसी) 21 अक्टूबर । कांग्रेस की वरिष्ठ नेता और पूर्व कैबिनेट मिनिस्टर कुमारी शैलजा ने हरियाणा विधानसभा चुनाव में हार के लिए निवर्तमान मुख्यमंत्री भूपिंदर सिंह हुड्डा को जिम्मेदार बताया। हुड्डा के स्लोगन ‘नंबर वन हरियाणा‘ पर तंज कसते हुए शैलजा ने कहा, ‘अगर हरियाणा नंबर वन था तो पार्टी रविवार को तीसरे स्थान पर क्यों आई ? यह केवल एक स्लोगन था, जो हरियाणा के लोगों को नहीं भाया।‘
उन्होंने विधानसभा चुनाव के लिए उम्मीदवारों का फैसला करने में हुड्डा की बुद्धिमानी पर सवाल उठाते हुए कहा, ‘क्या किसी ने हुड्डा को छोड़कर किसी अन्य कांग्रेस नेता का चेहरा देखा था? पहले उन्होंने कहा कि ज्यादातर टिकट नए चेहरों को दिए जाएंगे और फिर अंत में क्या हुआ।‘

kumari shailja Congress

शैलजा ने कहा, ‘उनकी बुद्धिमानी कहां थी? लोगों को ऐसा आभास कराया गया कि उनके अलावा कांग्रेस में कोई और नहीं है।‘ बताया जा रहा है कि शैलजा ने लोकसभा चुनाव से पहले हरियाणा में कांग्रेस नेतृत्व के बीच हुड्डा के खिलाफ विरोध की जानकारी एक मीटिंग में राहुल गांधी सहित पार्टी हाई कमान को दी थी। हालांकि, शैलजा को अपनी यह राय सार्वजनिक नहीं करने के लिए कहा गया क्योंकि पार्टी को आशंका थी कि इससे लोकसभा और विधानसभा चुनाव में विपरीत असर पड़ सकता है।

शैलजा ने अब अपनी चुप्पी तोड़ी है। उन्होंने कहा कि यूपीए सरकार की प्रगतिशील स्कीमों के बावजूद हरियाणा में विकास एकतरफा रहा। हरियाणा एक प्रगतिशील राज्य था और यूपीए की पॉलिसी के साथ आगे बढ़ सकता था लेकिन वहां विकास केवल कुछ जगहों तक ही सीमित रहा। उन्होंने कहा, ‘हरियाणा के लोगों के बीच भी यह आम राय है कि राज्य के ज्यादातर जिलों की अनदेखी की गई।‘ शैलजा का कहना था कि हुड्डा के क्षेत्र रोहतक से कांग्रेस के विधायक के हारने से हुड्डा की साख पर प्रश्न खड़ा होता है।

उन्होंने कहा कि कांग्रेस के विजयी उम्मीदवारों ने अपने दम पर चुनाव जीता है। यह पूछने पर कि क्या रॉबर्ट वाड्रा की विवादास्पद लैंड डील भी हुड्डा के लिए शर्मिंदगी का कारण बनी, शैलजा ने नकारात्मक जवाब दिया। उन्होंने कहा, ‘यह कोई मुद्दा ही नहीं था। प्रधानमंत्री ने मुद्दे को हवा देने की कोशिश की, लेकिन चुनाव आयोग ने इसे नकार दिया। डील में ऐसा कुछ नहीं है, जिसे गैर-कानूनी कहा जा सके।‘

हरियाणा में पार्टी के लिए आगे की राह के बारे में पूछने पर शैलजा ने कहा कि कोई कदम उठाने से पहले इस बात की निष्पक्ष समीक्षा करना जरूरी है कि पार्टी ने कहां गलती की है। हुड्डा और उनके समर्थकों पर बरसते हुए उन्होंने कहा, ‘अगर कोई व्यक्ति कह रहा है कि मुख्यमंत्री को पार्टी का नेतृत्व करने के लिए क्रेडिट दिया जाना चाहिए तो किस पर दोष लगाया जाएगा?‘ विधानसभा चुनाव में कांग्रेस को केवल 15 सीटें ही मिली हैं और कांग्रेस अब राज्य में तीसरे स्थान पर पहुंच गई है।


Check Also

पुलिस ने लखनऊ में नौ करोड़ ठगने वाला रुखसार को किया गिरफ्तार, 40 प्रतिशत मुनाफा का ऑफर दे ट्रेंडिंग कंपनी में कराता था निवेश

लखनऊ में ठगी के नित नए मामले प्रकाश में आ रहे हैं। किसी ने मकान …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *