Home >> Breaking News >> मनोहर लाल खट्टर होंगे हरियाणा के मुख्यमंत्री

मनोहर लाल खट्टर होंगे हरियाणा के मुख्यमंत्री


दिल्ली , (एजेंसी) 21 अक्टूबर । करनाल से बीजेपी विधायक मनोहर लाल खट्टर हरियाणा के अगले मुख्यमंत्री होंगे। संघ की पृष्ठभूमि से आए खट्टर ने करनाल में 63 हजार से अधिक वोटों से जीत दर्ज की है। चंडीगढ़ में केंद्रीय पर्यवेक्षकों वेंकैया नायडू और दिनेश शर्मा की मौजूदगी में विधायक दल की मीटिंग में सर्वसम्मति से खट्टर का चुनाव किया गया। मीटिंग में प्रदेश अध्यक्ष रामबिलास शर्मा ने उनके नाम का प्रस्ताव किया और विधायक अनिल विज ने इसका समर्थन किया।

manohar khattar

‘हेडमास्टर‘ बनेंगे प्रदेश के मुख्यमंत्री
मनोहर लाल खट्टर, वेंकैया नायडू और प्रदेश अध्यक्ष के साथ राज्यपाल कप्तान सिंह सोलंकी से मिलने जाएंगे और सरकार बनाने का दावा पेश करेंगे। बीजेपी सूत्रों का कहना है कि खट्टर के नेतृत्व में नई सरकार 26 अक्टबूर को शपथ लेगी।
संघ के प्रचारक और फिर प्रदेश में बीजेपी के संगठन मंत्री रह चुके खट्टर मुख्यमंत्री पद के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह की पहली पसंद थे। 19 अक्टूबर को बीजेपी संसदीय दल की बैठक में भी ज्यादातर नेताओं ने खट्टर के नाम पर मुहर लगाई थी। मंगलवार को खट्टर को हरियाणा में बीजेपी विधायक दल का नेता चुने जाने की रिपोर्ट के बाद उनके पैतृक गांव बनियानी में जश्न मनाया जाने लगा।

हरियाणा और महाराष्ट्र में मुख्यमंत्री पद के लिए पार्टी संगठन के प्रति निष्ठा और बेदाग छवि को सबसे ज्यादा महत्व दे रही है। इस कसौटी पर मनोहर लाल खट्टर दावेदारों की रेस में सबसे आगे रहे। इसके अलावा उनके पंजाबी समुदाय से होने के नाते दिल्ली और पंजाब में भी पार्टी को इससे फायदा मिलने की उम्मीद है। हरियाणा में भी इस बिरादरी का वोट करीब 8 फीसदी है।

60 साल के खट्टर का प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के करीबियों में शुमार हैं। 90 के दशक में जब मोदी पार्टी की ओर से हरियाणा के प्रभारी थे, तब खट्टर प्रदेश बीजेपी में संगठन मंत्री थे। बीजेपी पर गैर-जाट को राज्य में मुख्यमंत्री बनाने का काफी दबाव था। गैर-जाटों ने बड़े पैमाने पर बीजेपी को वोट भी किया था। खट्टर के चुनाव में भी यह फैक्टर अहम रहा। वह राज्य में पंजाबी समुदाय से आने वाले पहले मुख्यमंत्री होंगे।

एक वरिष्ठ नेता के मुताबिक हरियाणा में गैर जाट-मतों के पार्टी के पक्ष में हुए ध्रुवीकरण के बाद आलाकमान ने जाट वर्ग से मुख्यमंत्री नहीं बनाने का निर्णय लिया है। हालांकि, जाट समुदाय को लुभाने के लिए सरकार में कैप्टन अभिमन्यु को नंबर दो की हैसियत दी जा सकती है। अभिमन्यु पहली बार नारनौंद से विधायक चुने गए हुए हैं और मुख्यमंत्री के दावेदार थे। हरियाणा के साथ-साथ दिल्ली, पश्चिम उत्तर प्रदेश और राजस्थान के कई हिस्सों में प्रभावी जाट समुदाय को साधने के लिए दिवाली के बाद केंद्रीय मंत्रिपरिषद में होने वाले विस्तार में किसी जाट को मंत्री बनाया जा सकता है।


Check Also

नीतीश को लालू जी का शुक्रगुजार रहना चाहिए जिन्होंने आपको राजनीतिक जीवनदान दिया : राबड़ी देवी

बिहार में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव द्वारा नीतीश कुमार के विषय में अमर्यादित तरीके …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *