Thursday , 23 September 2021
Home >> बिज़नेस >> इसलिए खास है अक्षय तृतीया, सोने में निवेश से पहले रखें इन बातों का ध्यान

इसलिए खास है अक्षय तृतीया, सोने में निवेश से पहले रखें इन बातों का ध्यान


मल्टीमीडिया डेस्क। वैशाख माह में शुक्ल पक्ष की तृतीया को अक्षय तृ‍तीया मनाई जाती है। इस साल 28 अप्रैल को अक्षय तृतीया है। मान्यताओं के अनुसार भारतीय काल गणना के सि‍द्धांत से अक्षय तृतीया के दिन त्रेता युग की शुरुआत हुई। इसीलिए इस तिथि को सर्वसिद्ध तिथि के रूप में मान्यता मिली है।

शास्त्रों के अनुसार, अक्षय तृतीया पर्व के दिन स्नान, होम, जप, दान आदि का अनंत फल मिलता है। इसलिए भारतीय संस्कृति में इसका बड़ा महत्व है। उज्जैन की ज्योतिषविद रश्मि शर्मा ने बताया कि अक्षय तृतीया के दिन ही पीतांबरा, नर-नारायण, हयग्रीव और परशुराम के अवतार हुए हैं, इसीलिए इस दिन इनकी जयंती मनाई जाती है। इस दिन सोना खरीदने की परंपरा है, मान्यता है कि इससे घर में समृद्धि आती है।

अक्षय फल देती है अक्षय तृतीया

अक्षय यानी, जिसका कभी क्षय न हो या जो कभी नष्ट न हो। कहा जाता है कि अक्षय तृतीया के दिन किए जाने वाले शुभ कार्यों का अक्षय फल मिलता है। वैसे तो सभी बारह महीनों की शुक्ल पक्षीय तृतीया शुभ होती है, किंतु वैशाख माह की तिथि स्वयंसिद्ध मुहूर्तो में मानी गई है। अक्षय तृतीया के दिन दान जरूर करना चाहिए। यदि आप आर्थिक रूप से संपन्न नहीं हैं, तो भी अपनी सामर्थ्य के अनुसार दान करें। मान्यता है कि अक्षय तृतीया के दिन दान करने से दान करने वाले व्यक्ति का आने वाला समय अच्छा होता है और उसे दुख दूर होते हैं।

सोने में होगा निवेश

स्वर्ण उद्योग से जुड़े लोगों का कहना है कि सोने की कीमतें अंतरराष्ट्रीय बाजारों में हुई बढ़त की तुलना में नहीं बढ़ी हैं। ऐसे में लोगों को सोने में निवेश करने का यह बेहतर मौका दिख रहा है। माना जा रहा है कि अक्षय तृतीया पर्व पर सोने की बिक्री में 30 फीसद तक की वृद्धि होगी।

इन बातों का रखें ध्यान

सोना खरीदने से पहले कुछ बातों का विशेष ध्यान रखना चाहिए जैसे कि सोने की शुद्धता, वजन तथा हॉलमार्क। भारतीय मानक ब्यूरो द्वारा दिया जाने वाला हॉलमार्क इस बात की गारंटी है कि ज्वैलरी शुद्ध है। हॉलमार्क के साथ तीन अंकों की एक संख्या छपी होती है, जिससे आसानी से पता चलता है कि सोना अथवा चांदी कितनी शुद्ध है। उदारहण के लिए ज्वैलरी पर यदि 999 लिखा है, तो सोना 99.9 फीसदी शुद्ध है।

डिस्काउंट देख लें

त्योहारों के दौरान ग्राहकों को लुभाने के लिए कई तरह के डिस्काउंट ऑफर ज्वैलर्स देते हैं। इसलिए सोना या चांदी खरीदने से पहले इन डिस्काउंट के बारे में जान लें। उदाहरण के लिए तनिष्क 20 फीसद डिस्काउंट का ऑफर दे रही है। वहीं, पीसी ज्वैलर्स हर खरीद पर सोने का सिक्का देने की पेशकश कर रहा है। इस तरह के कई ऑफर्स चल रहे होंने, जिनके बारे में पहले से जानकारी ले लेंगे, तो फायदे में रहेंगे।

कीमतों की तुलना करें

हर दुकान में सोने के आभूषण अलग दामों में मिलते हैं। ऐसे में सोना खरीदने से पहले मौजूदा बाजार में एक सर्वे कर लें। यह देख लें कि कहां कितना मेकिंग चार्ज लिया जा रहा है और कितना डिस्काउंट मिल रहा है।

क्या खरीदें और क्या नहीं

सोने को हमेशा से ही बेहतर निवेश माना जाता है। मगर, पहले यह जरूरी है कि आप तय कर लें कि आप सोना क्यों खरीदना चाहते हैं। यदि आप निवेश के लिहाज से सोना खरीदना चाहते हैं, तो ज्वैलरी लेने की बजाय सोने के सिक्के या बिस्किट लें। गहने खरीदने पर उस पर आपको मेकिंग चार्ज देना होगा, जिसे लौटाने पर आपको पूरे पैसे नहीं मिलेंगे।


Check Also

महंगाई की मार के साथ हुआ सितंबर माह का आगाज़, सरकारी तेल कंपनियों ने घरेलू LPG सिलेंडर की कीमतों में एक बार फिर किया इजाफा

सितंबर माह का आगाज़ महंगाई की मार के साथ हुआ है. सरकारी तेल कंपनियों ने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *