Home >> Breaking News >> आज ही के दिन हुआ था आतंक के जिन्न का अंत

आज ही के दिन हुआ था आतंक के जिन्न का अंत


न्यूयार्क:  जिस अलकायदा को कभी आतंक का पर्याय माना जाता था और इसके सरगना ओसामा बिन लादेन की आतंकी योजनाओं को याद कर लोगों के रोंगटे खड़े हो जाया करते थे। उसके सरगना ओसामा बिन लादेन को करीब 6 वर्ष पहले आज ही के दिन मार दिया गया था। वैश्विक समुदाय जब टेलिविज़न पर अमेरिका के वल्र्ड ट्रेड सेंटर में विमानों से हुई टक्करों के रिकाॅर्डेड वीडियो देखने के बाद तो सभी दहल ही उठते हैं।

गौरतलब है कि इस ईमारत पर दो विमान टकराकर हमला किया गया था। इसमें बड़े पैमाने पर जान माल का नुकसान हुआ था। मगर इसके बाद अमेरिका ने ओसामा बिन लादेन को मारने के लिए कार्रवाई की थी। 2 मई वर्ष 2011 में पाकिस्तान के ऐबटाबाद में अमेरिका के सील कमांडो दाखिल हुए। पाकिस्तान को तक खबर नहीं लगी कि अमेरिका कार्रवाई कर रहा है। देखते ही देखते यह समाचार प्रसारित हुआ कि अमेरिका ने ओसामा बिन लादेन को मार गिराया है।

ऐसे में सभी को बड़ा आश्चर्य हुआ। यह आॅपरेशन नेवी सील के कमांडो रहे राबर्ट ओ नील के नेतृत्व में हुआ। इस दल में 6 सदस्य थे। ओसामा बिन लादेने को गोलियों से भूनने के बाद जब उसके सिर में तीन गोलियां लगी थीं तो फिर उसकी पहान के लिए उसके फटे हुए सिर को जोड़ा गया। दरअसल गोली के वार से उसका सिर फट गया था। इस मामले में सील कमांडो ओ नील की पुस्तक सामने आई उसने लिखा कि ओसामा बिन लादेन पर उसने जो गोली चलाई थी वह उसमें मारा गया था।

उन्होंने पुस्तक में अपने अनुभव साझा किए हैं। उन्होंने बताया है कि किस तरह से वे पाकिस्तान में दाखिल हुए और ओसामा बिन लादेन को मार दिया। राबर्ट ओ नील की पुस्तक के अनुसार सील कमांडो जब लादेन को तलाशते हुए एबटाबाद की इमारत के दूसरी मंजिल की सीढ़ियां चढ़ रहे थे तो उन्हें लादेन का एक बेटा खालिद एके 47 राइफल लिए नजर आया।

वह कमांडो पर फायर करने ही वाला था मगर उसी दौरान अमेरिकी गोली से उसकी मौत हो गई। फिर लादेन की खोज शुरू हुई। संभावना जताई गई कि लादेन आत्मघाती कदम भी उठा सकता है जैकेट पहनकर वह बड़ा नुकसान कर सकता है मगर यह ठान लिया था कि कुछ भी हो उसके पास जाऐंगे और उसे पकड़ेंगे। हमने लादेन के सिर में गोलियां चलाई ऐसे में उसका सिर फट गया और उसकी मौत हो गई।


Check Also

कृष्णामूर्ति ने सेना वापसी के निर्णय को सही बताते हुए कहा-भारत और अमेरिका मिलकर रोकें अफगानिस्तान में आतंकवाद

अमेरिकी सेना की अफगानिस्तान से वापसी के बाद भारतीय मूल के प्रभावशाली सांसद राजा कृष्णामूर्ति …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *