Home >> Breaking News >> सोनिया,राहुल, आडवाणी तक ने नहीं दिया संपत्ति का ब्यौरा

सोनिया,राहुल, आडवाणी तक ने नहीं दिया संपत्ति का ब्यौरा


नई दिल्ली , (एजेंसी) 26 अक्टूबर । मौजूदा लोकसभा के करीब तीन चैथाई सदस्यों ने लोकसभा सचिवालय में अपनी सम्पत्ति और देनदारी का ब्यौरा सितम्बर के अंतिम सप्ताह तक जमा नहीं कराया है जबकि नियम के अनुसार सदन की सदस्यता की शपथ लेने के 90 दिनों के भीतर ही ऐसा किया जाना चाहिए था।

SONIYA RAHUL WITH ADWAN I

इन सदस्यों में लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, उपाध्यक्ष राहुल गांधी, बीजेपी के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी, राजनाथ सिंह, सुषमा स्वराज, उमा भारती, नितिन गडकरी और समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष मुलायम सिंह यादव शामिल हैं।

सूचना का अधिकार (आरटीआई) कानून के तहत लोकसभा सचिवालय से मिली जानकारी के अनुसार वर्तमान लोकसभा के 401 सदस्यों की सम्पत्ति और देनदारी के ब्यौरे की प्रतीक्षा की जा रही है । यह ब्यौरा लोकसभा सदस्य (सम्पत्ति और देनदारी की घोषणा) नियम 2004 के तहत सदस्यों को सदन की सदस्यता की शपथ लेने के 90 दिनों के भीतर पेश करना होता है।

हरियाणा के हिसार स्थित आरटीआई कार्यकर्ता रमेश वर्मा ने लोकसभा सचिवालय से ऐसे सदस्यों की सूची मांगी थी जिन्होंने नियमों के तहत 90 दिनों की समयसीमा के भीतर सम्पत्ति एवं देनदारी का ब्यौरा नहीं दिया है।

आरटीआई से प्राप्त जानकारी के अनुसार, 90 दिनों के भीतर अपनी सम्पत्ति और देनदारी का ब्यौरा नहीं जमा करने वालों में बीजेपी के 209 सदस्य, कांग्रेस के 31, तृणमूल कांग्रेस के 27, बीजू जनता दल के 18, शिवसेना के 15, तेलगू देशम पार्टी के 14, अन्नाद्रमुक के नौ, तेलंगाना राष्ट्र समिति के आठ, वाईएसआर कांग्रेस के सात और लोक जनशक्ति पार्टी के छह सदस्य शामिल हैं।

इस सूची में समाजवादी पार्टी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी के चार चार, अकाली दल, राष्ट्रीय जनता दल और आम आदमी पार्टी के तीन तीन जबकि जेडीयू और अपना दल के दो दो सदस्यों के नाम हैं।


Check Also

देश में धर्म के नाम पर राजनीति की जा रही है : फारूक अब्दुल्ला

नेकां(नेशनल कांफ्रेंस) के प्रदेश अध्यक्ष सांसद फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि पांच अगस्त के बाद …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *