Home >> Exclusive News >> छह नई लांचिंग से बढ़ेगी सस्ते सेडान कार बाजार की गर्मी

छह नई लांचिंग से बढ़ेगी सस्ते सेडान कार बाजार की गर्मी


नई दिल्ली। भारतीय बाजार मे अभी भले ही एसयूवी और हैचबैक कारों की तूती बोल रही हो लेकिन एंट्री लेवल सेडान कारों के बाजार में रौनक खत्म होने का नाम नहीं ले रही है।देश की सारी कार कंपनियां इस बाजार के ग्राहकों के लिए अपने मौजूद मॉडलों को नए लुक मे उतार रही हैं या फिर नई कार ही लांच करने जा रही हैं।

इन कंपनियों की तैयारी को देखें तो अगले एक वर्ष के भीतर इस वर्ग में छह नए मॉडल उतारे जाएंगे। इस वर्ग की सबसे मशहूर कार वैसे अभी भी मारुति सुजुकी की डिजायर है जो अपनी सारी प्रतिद्वंदियों से काफी आगे है।

डिजायर को पूरी तरह से नए रंग रूप में अगले महीने बिक्री के लिए उतारा जाएगा। मारुति से पहले हुंडई ने पिछले हफ्ते ही इस वर्ग की एक्सेंट को बहुत ही आकर्षक कीमतों के साथ उतारा है।

भारतीय कार बाजार में अपनी नई पहचान बनाने में जुटी टाटा मोटर्स ने टायगॉर उतारी है। कंपनी की पहले से ही जेस्ट मॉडल इस वर्ग में है। होंडा अपनी एमेज को अगले वर्ष फिर से नए लुक के साथ उतारने की सोच रही है।

फ्रांसीसी कार कंपनी रेनो की भारतीय कार ग्राहकों के लिए तैयार की जा रही नई एंट्री लेवल सेडान कार भी इस वर्ष के अंत तक या अगले वर्ष ऑटो एक्सपो के दौरान लांच की जा सकती है।

टोयोटा सरकार के ईंधन मानकों के साफ होने का इंतजार कर रही थी। अब जबकि स्थिति साफ हो गई है तो कंपनी अगले वर्ष अपनी मौजदा एंट्री लेवल सेडान इटियॉस की जगह दूसरी कार उतारने का मन बना चुकी है। कंपनियों की इस तैयारी के पीछे की तीन वजहें बताई जा रही हैं।

कार उद्योग से जुड़े जानकारों के मुताबिक पहली वजह तो यह है कि अभी तक छोटी कार चलाने वाले बड़ी संख्या में ऐसे ग्राहक हैं जो तीन बॉक्स खरीदना चाहते हैं लेकिन उनकी जेब बहुत ज्यादा भरी नहीं होती है।

इन ग्राहकों के लिए सस्ती एंट्री लेवल सेडान कार सही होती है। दूसरी वजह यह है कि अभी सातवें वेतन आयोग की वजह से केंद्र व राज्यों के कर्मचारियों के पास काफी पैसा आया है या आने वाला है।

इस वर्ग के बीच ये कारें काफी मशहूर हैं। तीसरा वर्ग देश में बढ़ता टैक्सी बाजार है। ओला व उबर के बीच भी एंट्री लेवल कारों की अच्छी मांग है।

वैसे भारतीय एंट्री लेवल कार बाजार में मारुति सुजकी की डिजायर पहली कार थी और आज तक यह इस बाजार की निर्विवाद तौर पर लीडर है।

पिछले वर्ष इसकी 199,878 कारों की बिक्री की गई है जो दूसरे स्थान पर रहने वाली हुंडई एक्सेंट की 47,614 कारों से काफी आगे है। तीसरे स्थान पर होंडा की एमेज है जिसकी 33,754 कारों की बिक्री हुई है।

डिजायर मॉडल की अभी तक 14 लाख कारें बिक चुकी हैं और इसकी बाजार हिस्सेदारी लगातार 50 फीसद से ऊपर बनी हुई है।

 


Check Also

दिल्ली-एनसीआर में हुई बारिश ने एक बार फिर प्रशासन के दावे की खोल दी पोल, कहीं डूबी मर्सिडीज तो कहीं गायब हुई साइकिल

दिल्ली-एनसीआर में बुधवार को हुई बारिश ने एक बार फिर प्रशासन के दावे की पोल …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *