Home >> Breaking News >> काशी के लिए खुषखबरी, संवरेगी गांव,गंगा और गली

काशी के लिए खुषखबरी, संवरेगी गांव,गंगा और गली


वाराणसी , (एजेंसी) 27 अक्टूबर । पीएम ने अब तक ककहरिया गांव को भले ही ‘गोद‘ न लिया हो, लेकिन इसके डिवेलपमेंट के लिए कई बैंक मेहरबानी दिखाने लगे हैं। यहां पर 25 युवकों को आईटीआई में स्किल डिवेलपमेंट की ट्रेनिंग दी जाएगी, तो घर-घर सोलर चूल्हा पहुंचाने की तैयारी है। स्कूलों में अब बच्चों को ‘आरओ‘ का शुद्ध पानी मिलेगा।

NARENDRA MODI IN KASHI

छुट्टी के दिन एक हजार एकाउंट खोला: एसबीआई ने रविवार को छुट्टी होने के बावजूद श्जीरोश् बैलेंस पर एक हजार खाते खोले। लोहता के ब्रांच मैनेजर एके सिंह के नेतृत्व में पहुंची 20 लोगों की टीम ने घर-घर पहुंच जीरो बैलेंस वाले एक हजार एकाउंट खोले। फार्म कम पड़ जाने से बाकी लोगों का अकाउंट बाद में खुलेगा। सोमवार को सभी का आधार कार्ड बनाने का शिविर लगेगा।

ग्रामीण बैंक की तीन करोड़ की मदद: ककरहिया को दीपावली का तोहफा काशी ग्रामीण गोमती बैंक ने दिया है। बैंक अधिकारी राजीव लोचन ने ग्राम प्रधान मनोज सिंह से मिलकर जानकारी दी कि गांव के डिवेलपमेंट के लिए तीन करोड़ की आर्थिक सहायता बैंक देगा। बैंक के चेयरमैन भोला प्रसाद 28 अक्टूबर को गांव में आएंगे। चेयरमैन के आने के पहले बैंक अधिकारियों की टीम गांव में आकर डाटा बैंक तैयार करेगी। हर परिवार की छोटी से छोटी जानकारी एकत्र की जाएगी।

स्कूलों में आरओ: ग्राम प्रधान मनोज सिंह ने बताया कि स्टेट बैंक ने गांव के प्राइमरी व जूनियर स्कूलों में शुद्ध पेजयल के लिए पानी की टंकिया और आरओ सिस्टम उपलब्ध कराया है। सोमवार को यह स्कूलों पर पहुंच जाएगा। उधर यूनियन बैंक के अधिकारी समीर साईं ने भी गांव के डिवेलपमेंट में सहयोग देने के लिए ग्राम प्रधान से सम्पर्क साधा है।

सोलर चूल्हा-लाइट: गांव के हर घर में सोलर चूल्हे पर खाना पकाने और सोलर लाइट की रोशनी से घर-गांव जगमगाने की तैयारी है। अगले सप्ताह ही सोलर चूल्हे और लाइट का डिमास्ट्रेशन देने के लिए टीम आने वाली है। सोलर चूल्हे कम कीमत और किश्तों में उपलब्ध कराने की पेशकश काशी गोमती बैंक ने की है।

आईटीआई में ट्रेनिंग मिलेगी: ग्राम प्रधान की मानें तो करौंदी आईटीआई की ओर से 25 बेरोजगार युवकों की सूची मांगी गई है। इन युवकों को निरूशुल्क प्रशिक्षण देकर अपने पैरों पर खड़ा किया जाएगा।

गरीबों के भी बनेंगे आशियाने
टाउन प्लानर के मुताबिक नए शहर में आवासीय क्षेत्र की करीब 12 हजार हेक्टेयर भूमि में निर्बल व गरीब तबके को भी तवज्जो मिलेगी। हर वर्ग के लोगों के आशियाने की ख्वाहिश पूरा करने की कोशिश है। 50 फीसदी भवन बड़े लोगों के लिए तो 20 फीसदी मध्यम आय व 30 फीसदी लघु आय वालों के लिए बनेंगे।

बनेगी फिल्म सिटी
वाराणसी-मीरजापुर जिलों को मिलाकर फिल्म सिटी बनाए जाने की कवायद भी विकास प्राधिकरण ने शुरु कर दी है। प्राधिकरण के अध्यक्ष आरएन श्रीवास्तव ने जमीन चिन्हित करने का निर्देश दे दिया है। यह काम तीन महीनों के अंदर पूरा हो जाएगा।

एजुकेशन,इंडस्ट्रियल मेडिकल हब
न्यू बनारस में शैक्षणिक गतिविधियों के लिए 1500 तथा मेडिकल सुविधाओं के लिए 700 हेक्टेयर जीमन का प्रावधान किया गया है। इस एरिया में नए विश्वविद्यालय,दस हजार की आबादी पर एक हाईस्कूल व इंटर कालेज तथा टेक्निलकल कालेज खोलने का प्रावधान किया गया है। बनारस के कुटीर उद्योगों के लिए रिसर्च सेंटर खोलने को भी जमीन उपलब्ध होगी। शिवपुर में नया इंडस्ट्रियल एरिया विकसित होगा। पूर्वांचल का लोड बनारस पर ही होने से सुपर स्पेशिलिटी हॉस्पिटल के अलावा सौ प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र की स्थापना का प्रस्ताव है।

संरक्षित होंगे ऐतिहासिक स्थल
नया बनारस विकसित करने के साथ ही पुराने ऐतिहासिक स्थलों को विकसित किए जाने का भी प्रस्ताव है। दशाशवमेध, पंचगंगा, राणामहल, बालाजी, तुलसी घाट, कनार्टक घाटों के अलावा पंचक्रोशी मार्ग में पड़ने वाले सौ से ज्यादा मंदिरों, चेतसिंह किला संरक्षित होने वाले स्थलों में प्रमुख हैं।


Check Also

जो शख्स हैदराबाद का नाम बदलना चाहता है उनकी नस्लें तबाह हो जाएंगी मगर इस शहर नाम नहीं बदलेगा : असदुद्दीन ओवैसी

हैदराबाद निकाय चुनाव के लिए एक दिसंबर को मतदान होना है और भारतीय जनता पार्टी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *