Tuesday , 21 September 2021
Home >> Exclusive News >> यूपी विधानपरिषद: अवमानना मामले में पेश हुए रायबरेली के अधिशासी अभियंता, फैसला सुरक्षित

यूपी विधानपरिषद: अवमानना मामले में पेश हुए रायबरेली के अधिशासी अभियंता, फैसला सुरक्षित


उत्तर प्रदेश विधानपरिषद में अवमानना मामले में सोमवार को सुनवाई हुई.

इस दौरान एमएलसी दिनेश सिंह को फोन पर धमकाने के आरोप में रायबरेली के अधिशासी अभियंता एसके सिन्हा विधानपरिषद में पेश हुए. सुनवाई के बाद सभापति ने निर्णय सुरक्षित कर लिया है.

विधान परिषद में पेश हुए अधिशासी अभियंता एसके सिन्हा ने कहा कि विधानपरिषद सदस्य के खिलाफ कोई कोई अपशब्द नहीं कहा. इसके बाद उन्होंने कहा कि मैं सदन और विधान परिषद के सदस्य दिनेश सिंह से माफी मांगता हूं.

एमएलसी दिनेश प्रताप सिंह ने कहा कि अधिकारी एसके सिन्हा ने जानबूझ कर मेरा अपमान किया. मेरे पास धमकी भरे फोन आये और कहा गया कि जेल से बोल रहा हूूं. एसके सिन्हा के खिलाफ गए तो नतीजा भुगतना पड़ेगा. विधान परिषद में नेता सदन दिनेश प्रताप ने कहा मामले में जांच हो सकती है.

​नेता सदन ने अधिशासी अभियंता से पूछा कि दिनेश प्रताप ने फोन किया था तो आपने पलट कर 4 से 5 बार फोन किया और धमकी दी. सदस्य का और सदन का अपमान किया है. अधिशाषी अभियंता ने सफाई देते हुए कहा कि मैंने कुछ नहीं कहा. मैं माफी मांगता हूं. इसके बाद अधिशासी अभियंता को सदन से बाहर भेज दिया गया.

वहीं दिनेश प्रताप सिंह ने सदन को बताया कि आज फिर उन्हें फोन आया था, जिसमें धमकी दी गई. कहा गया कि मैं जेल से बोल रहा हूं. अगर आज अधिशासी अभियंता का मुद्दा उठाया तो अपने आपको दुनिया से उठा समझो.

दिनेश प्रताप को पहले 5 बार फोन करके अभियंता ने कहा था की तुमको सदन जाने लायक नहीं छोड़ूंगा. सभी दलों के सदस्य कठोर दंड देने की कर रहे मांग की. इसके बाद सभापति ने फैसला सुरक्षित रख लिया है.


Check Also

यूपी के फिरोजाबाद में कोरोना के साथ वायरल फीवर और डेंगू का बढ़ता जा रहा कहर, फिर सामने आए इतने केस

यूपी के फिरोजाबाद में वायरल फीवर और डेंगू का कहर और भी तेजी से बढ़ता …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *