Home >> Breaking News >> दीवाली ने नहीं किया धमाकाए कार कंपनियों की उम्मीदें फीकी

दीवाली ने नहीं किया धमाकाए कार कंपनियों की उम्मीदें फीकी


Automoble industry

मुंबई,(एजेंसी) 02 नवम्बर । ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री को सितंबर और अक्टूबर में डबल डिजिट ग्रोथ की उम्मीद थीए लेकिन करीब दो महीने तक चले फेस्टिव सीजन के दौरान कार और यूटिलिटी वीकल्स की बिक्री सामान्य रहने का अनुमान जताया जा रहा है। इंडस्ट्री के अधिकारियों के मुताबिकए फेस्टिव सीजन के दौरान सेल्स बढ़ाने के लिए कंपनियों ने अपनी तरफ से भारी डिस्काउंट दिए थेए लेकिन उसका कोई लाभ मिलता नजर नहीं आ रहा है।

मौजूदा फाइनैंशल ईयर के पहले चार महीनों में सालाना आधार पर हुई दमदार बिक्री ने फेस्टिव सीजन के दौरान ऑटोमोबाइल कंपनियों की उम्मीदें बढ़ा दी थीं। इंडस्ट्री को लगने लगा था कि पिछले दो वर्षों की सुस्त बिक्री का दौर खत्म हो चुका है। इकनॉमी में आ रहे सुधार ने भी इंडस्ट्री की उम्मीदों को बल दिया था। ऑटो सेक्टर की दिग्गज कंपनी मारुति सुजुकी के चेयरमैन आर सी भार्गव और महिंद्रा ऐंड महिंद्रा के ऐग्जेक्युटिव डायरेक्टर पवन गोयनका के मुताबिकए मौजूदा फाइनैंशल ईयर में कुल बिक्री पहले जाहिर किए गए अनुमान से कम रह सकती है।

इंडस्ट्री सूत्रों के मुताबिक, अक्टूबर में ऑटोमोबाइल कंपनियों ने करीब 2.18 लाख पैसेंजर वीइकल्स की खेप बाजार में उतारी थीए जो पिछले साल की समान अवधि के मुकाबले 4ण्5 पर्सेंट कम है। क्वॉर्टर बेसिस पर भी आंकड़ों में गिरावट आई है। सितंबर में कंपनियों ने बाजार में करीब 2ण्20 लाख वाहनों की खेप उतारी थी।

हालांकि इन आंकड़ों में मैक्सिमो, मैजिक आइरिस और एसे मैजिक जैसी पॉप्युलर वैन को शामिल नहीं किया गया है। इन गाडि़यों का इस्तेमाल कमर्शल मकसद से किया जाता है। ऑटोमोबाइल इंडस्ट्री की प्रतिनिधि संस्था सोसायटी ऑफ इंडियन ऑटोमोबाइल मैन्युफैक्चरर्स अपने आंकड़ों में इन वाहनों की बिक्री को पैसेंजर वीइकल कैटेगरी में शामिल करती है।

होंडा कार्स इंडिया में सेल्स ऐंड मार्केटिंग के सीनियर वाइस प्रेसिडेंट जनेश्वर सेन ने कहाए ष्फ्यूल की कीमतों में गिरावट आ रही है और सेंसेक्स के उछाल से सेंटीमेंट में सुधार आया है। इसकी वजह से बिक्री में इजाफा होने की उम्मीद थीए लेकिन ऐसा हुआ नहीं।ष् उन्होंने कहाए ष्इंडस्ट्री की चिंता अभी दूर होनी बाकी है। हमें यह देखना होगा कि आने वाले समय में डिमांड में कैसे तेजी आती है।”

दो महीने तक चलने वाले फेस्टिव सीजन के दौरान सेल्स में भारी वृद्धि होती है क्योंकि भारतीय लोग इसे खरीदारी का शुभ समय मानते हैं। इस दौरान कंज्यूमर्स वीइकल्सए कंज्यूमर ड्यूरेबल्सए जूलरी और अन्य कीमती ऐसट की खरीदारी करते हैं। यह चैथा साल है जब ऑटो इंडस्ट्री को सुस्त बिक्री का सामना करना पड़ा है। हालांकि टू.वीलर की बिक्री में उछाल आया है और अधिकतर कंपनियों ने जबरदस्त बिक्री की है।

ह्युंदै मोटर इंडियाए मारुति सुजुकी और होंडा उन कुछ कंपनियों में शामिल हैंए जिन्होंने अक्टूबर में जबरदस्त बिक्री की है। इन कंपनियों को नए मॉडलों की लॉन्चिंग से सेल्स बढ़ाने में मदद मिली।


Check Also

राज्य सरकारें स्कूल खोलने की दिशा में फूंक-फूंक कर बढ़ाएंगी कदम, जानें किस राज्य का अब तक क्या फैसला

देश में कोरोना वायरस के सक्रिय मामले हर दिन घट रही है तो इस बात …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *