Home >> Breaking News >> रामपाल का आश्रम है या कुकर्म का अड्डा

रामपाल का आश्रम है या कुकर्म का अड्डा


Aresting for Rampal

हिसार ,(एजेंसी) 20 नवम्बर । साढ़े 33 घंटे के ऑपरेशन के बाद हरियाणा पुलिस ने बुधवार की रात सतलोक आश्रम से स्वयंभू संत रामपाल को गिरफ्तार कर लिया। रामपाल की गिरफ्तारी के बाद आश्रम की तलाशी के दौरान पुलिस को कॉन्डम, महिला शौचालयों में खुफिया कैमरे, नशीली दवाएंए बेहोशी की हालत में पहुंचाने वाली गैस, अश्लील साहित्य समेत भारी तादाद में आपत्तिजनक सामग्री मिली हैं। आश्रम से बाहर आई एक महिला ने बताया कि पिछले कुछ दिनों में उनके साथ कई बार दुष्कर्म किया गया।

बताया जा रहा है कि बुधवार को रामपाल ने पुलिस के सामने सरेंडर करने की जो पेशकश की थी, उसमें शर्त भी रखी थी कि आश्रम की तलाशी नहीं ली जाएगी। हालांकि, पुलिस ने उसकी सरेंडर और तलाशी न लेने की शर्तों को मानने से इनकार कर दिया था। पुलिस की कार्रवाई और आश्रम से करीब 20 हजार अनुयायियों को निकालने के बाद रात साढ़े नौ बजे के करीब रामपाल को गिरफ्तार कर लिया गया था। आश्रम से निकलने के बाद अनुयायियों ने बताया कि उन्हें बंधक बनाकर रखा गया था।
रामपाल की गिरफ्तारी के बाद पुलिस ने लाउडस्पीकर से घोषणा की कि जो भी अंदर हैं वे बाहर निकल जाएंए मगर जब कोई नहीं निकला तो पुलिस ने आश्रम को खंगालने का काम शुरू कर दिया। सबसे पहले मेन गेट के पास बने महिला शौचालय की जांच शुरू हुई। पुलिस के शौचालय को देखकर होश उड़ गए। शौचालय के बाहर लगे कैमरे का मुंह भी अंदर की तरफ किया गया था। शौचालय में पुलिस को कॉन्डम भी मिले हैं। आश्रम के अंदर गैस की बदबू आ रही थी। डॉक्टरों ने जांच की तो पता चला कि यह नाइट्रोजन गैस की बदबू है।

बुधवार को आश्रम से बाहर आने पर महिलाओं ने भी चैंकाने वाले अनेक खुलासे किए। उनके अनुसार रामपाल के निजी कमांडो उन्हें बंधक बनाकर दुष्कर्म तक करते थे और ऐसी जगह रखते थे कि किसी तक उनकी आवाज नहीं पहुंच सकती थी। आश्रम से निकली एक महिला ने बताया कि वह अपने पति और बच्चे के साथ यहां आई हुई थी और पिछले सात दिनों से वह आश्रम में ही है। उन्होंने कहा कि कुछ दिनों से उनसे दुष्कर्म किया जा रहा था। महिला का कहना है कि पांच दिनों से पति के साथ उनका संपर्क नहीं हो पा रहा है।

रामपाल पर देशद्रोह की गंभीर धाराएं लगीं
हरियाणा पुलिस ने सतलोक आश्रम के मुखिया रामपाल पर देशद्रोह का मुकदमा दर्ज कर लिया है। अब रामपाल से कोई बात भी नहीं की जाएगी। इस तरह ऑपरेशन रामपाल में जुटी राज्य सरकार ने साफ कर दिया है कि पुलिस अब रामपाल को गिरफ्तार करके ही बैरक में लौटेगी। रामपाल के खिलाफ जिन बेहद गंभीर धाराओं में केस दर्ज किया गया है उनमें धारा 121 देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने या उसकी कोशिश करना, 121 ‘ए’ देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने की साजिश करनाए धारा 122 युद्ध छेड़ने के लिए हथियार जमा करना और 123 इसके लिए अवैध काम करना शामिल हैं।

राज्य पुलिस प्रमुख (डीजीपी) वशिष्ठ और गृह सचिव पीके माहापात्रा ने ऑपरेशन रामपाल के दूसरे दिन रामपाल पर देशद्रोह का केस दर्ज किए जाने की पुष्टि की। उन्होंने बताया कि ऑपरेशन के दौरान आश्रम की तरफ से पुलिस को 4 महिलाओं के शव सौंपे गए हैं। इसके अलावा एक महिला की प्राकृतिक मृत्यु और एक डेढ़ साल के बच्चे की प्राकृतिक मृत्यु हुई है। वशिष्ठ ने दोहराया कि लोगों को आश्रम के अंदर से सुरक्षित रूप से बाहर निकालना और रामपाल को गिरफ्तार कर हाईकोर्ट में पेश करना सरकार का पहला मकसद है।

एक सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि आश्रम से मिली लाशों का पोस्टमॉर्टम करवाया जा रहा है। इस बारे में सूत्रों ने बताया कि पोस्टमार्टम की पूरी प्रक्रिया के लिए एक विशेष बोर्ड गठित किया गया है। पोस्टमॉर्टम की पूरी प्रक्रिया की वीडियोग्राफी होगी। डीजीपी ने कहा कि रामपाल एक अभियुक्त है और मंगलवार की घटना के बाद रामपाल पर संगीन आरोप लगे हैं और इस मामले में बातचीत का कोई प्रस्ताव नहीं है और न ही होगा। उन्होंने अभियुक्त रामपाल को परामर्श देते हुए कहा कि उसे कानून के आदेश को मानते हुए जल्द से जल्द आत्मसमर्पण कर देना चाहिए।

Aresting For Rampal in Hariyana

पुलिस ने हाई कोर्ट में रामपाल को पेश किया, अगली सुनवाई 28 को
दो दिनों की मशक्कत के बाद गिरफ्त में आए स्वयंभू संत रामपाल को पुलिस ने अदालत की अवमानना के मामले में पंजाब एवं हरियाणा हाई कोर्ट में पेश कर दिया है। हाई कोर्ट ने इस मामले की सुनवाई शुरू करते हुए पुलिस से रामपाल के खिलाफ चलाए गए ऑपरेशन और उनकी ओर से किए गए प्रतिरोध पर रिपोर्ट मांगी। अदालत ने डेरों में गैर.कानूनी हथियारों की मौजूदगी पर गंभीर चिंता जताई। इस मामले में अगली सुनवाई 28 नवंबर को होगी। हाई कोर्ट हत्या के मामले में उनकी जमानत सुबह ही रद्द कर चुका है।

इस बीच, रामपाल की गिरफ्तारी के एक दिन बाद भी उनके अनुयायियों का आश्रम से बाहर आना लगातार जारी है। आज सुबह अधिकारियों ने सतलोक आश्रम में मौजूद अनुयायियों से बाहर निकल आने की अपील करते हुए उनसे कहा था कि पुलिस और नागरिक प्रशासन वहां उनकी मदद के लिए है। पुलिस ने कहा कि उसे संदेह है कि रामपाल के कुछ कट्टर समर्थक और उसके कुछ निजी कमांडो अभी भी अंदर हैं। आश्रम में हथियारए आपत्तिजनक वस्तुएं खोज निकालने के लिए व्यापक स्तरीय खोज अभियान चलाने से पहले पुलिस ने कहा कि वह यह सुनिश्चित करना चाहती है कि सभी निर्दोष अनुयायी बाहर आ जाएं ताकि अंदर छिपे किसी भी कमांडो या आरोपियों को अलग-थलग किया जा सके।

इससे पहले बुधवार की रात रामपाल को गिरफ्तार किए जाने के बाद जरूरी मेडिकल जांच के लिए ऐम्बुलेंस से पंचकूला के सेक्टर 6 स्थित सदर अस्पताल ले जाया गयाए जहां उन्हें पूरी तरह से ठीक करार दिया गया। गौरतलब है कि अवमानना के मामले में अदालत में उपस्थित होने से इनकार करने वाले 63 साल के रामपाल दावा कर रहे थे कि वह बीमार है और उन्हें हिसार के बरवाला में सतलोक आश्रम से दो सप्ताह तक चले गतिरोध के बाद गिरफ्तार किया गया था। सदर अस्पताल के डॉण् राजेश ने संवाददाताओं से कहा कि रामपाल का स्वास्थ्य सभी मापदंडों पर ठीक हैं। पंचकुला अस्पताल लाए जाने के बाद रामपाल ऐम्बुलेंस से खुद चलकर बाहर आए। रामपाल ने शॉल ओढ़े हुए थे।

इस मामले में हैं वॉरंट:
2 जुलाई, 2006 को हरियाणा के रोहतक के करौंथा में बाबा रामपाल द्वारा संचालित सतलोक आश्रम के बाहर एक युवक की मौत हो गई थी। इस मामले में बाबा रामपाल और उसके 37 समर्थकों के खिलाफ मुकदमा दर्ज है। इसी मुद्दे पर 12 मईए 2013 को करौथा में पुलिस और ग्रामीणों के बीच हिंसक झड़प में तीन लोगों की मौत हो गई थी।

14 मई, 2013 को पुलिस ने आश्रम खाली कराया। संत रामपाल बरवाला स्थित आश्रम में चले गए। इन्हीं मामलों में बाबा रामपाल और उसके अनुयायियों के खिलाफ मुकदमा चल रहा है। पेशी से छूट खत्म होने के बाद हिसार कोर्ट में 14 मईए 2014 को रामपाल की विडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पेशी हुई। सुनवाई के दिन समर्थकों ने वकीलों से हाथापाई कीए जजों के खिलाफ नारेबाजी भी की। हाई कोर्ट ने खुद संज्ञान लिया। उसे पेश होने का आदेश दिया गया। कई सुनवाई पर रामपाल पेश नहीं हुए तो हाई कोर्ट ने रामपाल और उनके अनुयायी व सेवा समिति के अध्यक्ष रामकुमार ढाका के खिलाफ गैर जमानती वॉरंट जारी किया।


Check Also

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने एयर इंडिया वन में किया सफर, तिरुपति में करेंगे भगवान के दर्शन

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने देश की प्रथम महिला सविता कोविंद के साथ एयर इंडिया वन-बी777 …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *