Home >> Breaking News >> वकीलों ने पूर्व सांसद को जमकर पीटा, नंगा कर सड़क पर घुमाया

वकीलों ने पूर्व सांसद को जमकर पीटा, नंगा कर सड़क पर घुमाया


Banwari Lal kanchal

लखनऊ,(एजेंसी) 06 दिसंबर । उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ में शुक्रवार को एक बड़े व्यापारी नेता और पूर्व राज्यसभा सांसद बनवारी लाल कंछल की वकीलों ने जमकर पिटाई की । वकील उन्हें कोर्ट परिसर से खींचते हुए बाहर लाए और उनके कपड़े फाड़कर उन्हें निर्वस्त्र तक कर डाला। इतने से भी जब मन नहीं भरा तो वकीलों ने बनवारी लाल को बीच सड़क पर मुर्गा बनाया और इतना सब होता रहा, लेकिन अखिलेश सरकार की पुलिस को खबर तक नहीं लगी।

दरअसल पूर्व सांसद और उत्तर प्रदेश व्यापार मंडल के अध्यक्ष बनवारी लाल कंछल अपने 17 साल पुराने एक जमीन विवाद के सिलसिले में कोर्ट पहुंचे थे। कोर्ट से बाहर निकलने के बाद जैसे ही वो सीढ़ियों के पास पहुंचे तो 25-30 वकीलों ने उन पर हमला बोल दिया। इसके बाद वकील उन्हें खींचते हुए कोर्ट से 3 मंजिल नीचे लाए और जमकर पीटा। वकीलों ने उनके कपडे फाड़ दिए और भद्दी-भद्दी गालियां देते हुए कोर्ट के बाहर खुलेआम सड़क पर मुर्गा बनाया।

इस दौरान बड़ी संख्या में मौजूद वकीलों ने बनवारी लाल कंछल की बुरी तरह से पिटाई की और नंगा करके सड़क पर घुमाया। कोर्ट के अंदर और बाहर वकील इस तरह की दबंगई करते रहे, लेकिन ना तो पुलिस और ना ही कोई अन्य व्यक्ति इस पूर्व सांसद को बचाने आगे आया। वकीलों की ये दबंगई काफी समय तक यूं ही चलती रही। बहरहाल इसके पीछे की असल वजह भी प्रोपर्टी विवाद ही बताया जा रहा है। घायल नेता को अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां पर वो इन वकीलों के खिलाफ सख्त कार्रवाही की मांग कर रहे हैं।

गौरतलब है कि बनवारी लाल कंछल समाजवादी पार्टी से राज्यसभा सांसद रह चुके हैं। वे व्यापारियों के नेता है और अब भी सपा के सदस्य हैं। कंछल ने देर शाम कुछ वकीलों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है। बनवारी लाल ने बताया कि वकील उन्हें जान से मारने की बात कर रहे थे। पूर्व सांसद के अनुसार वकीलों ने उनकी चेन भी छीन ली और सदरी फाड़ दी, जूतों से गिरा-गिरा कर मारा। घटना के विरोध में लखनऊ में व्यापारियों ने शनिवार को लखनऊ बंद का आवाहन किया है।


Check Also

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने केंद्र से कृषि कानूनों को वापस लेने का किया आग्रह

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन ने मंगलवार को केंद्र से किसानों की मांगों को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *