Wednesday , 25 November 2020
Home >> Sports >> चैम्पियंस ट्राफी हाकी : आखिरी मिनट में गोल गंवाकर जर्मनी से हारा भारत

चैम्पियंस ट्राफी हाकी : आखिरी मिनट में गोल गंवाकर जर्मनी से हारा भारत


58822-hockey

भुवनेश्वर, (एजेंसी) 07 दिसंबर । मेजबान गोलकीपर पी आर श्रीजेश के शानदार प्रयासों के बावजूद ओलंपिक चैम्पियन जर्मनी ने आखिरी मिनट में किये गए एकमात्र गोल के दम पर भारत को चैम्पियंस ट्राफी हाकी पूल बी के मैच में 1-0 से हरा दिया।

श्रीजेश नहीं होते तो भारत की हार का अंतर कहीं अधिक होता। केरल के इस गोलकीपर ने जर्मनी के कई शर्तिया गोल बचाये। आखिरी मिनट में हालांकि उनकी चूक भारी पड़ी और फ्लोरियन फुश ने विजयी गोल दाग दिया। श्रीजेश फुश को रोकने के लिये आगे बढे लेकिन गलत समय पर कूद पड़े और अपना संयम बरकरार रखते हुए जर्मन स्ट्राइकर ने हूटर से 34 मिनट पहले गेंद को नेट में डाल दिया।

पहले दिन के सबसे प्रतीक्षित इस मुकाबले में जर्मन टीम ने शुरू ही से दबदबा बनाये रखा और कई मौके बनाये। भारत ने टुकड़ों में अच्छा प्रदर्शन किया। पहले क्वार्टर में भारतीय डिफेंडरों ने जर्मन आक्रमण को बखूबी काबू में रखा।

मौजूदा ओलंपिक चैम्पियन जर्मनी को शुरूआती दस मिनट के भीतर दो पेनल्टी कार्नर मिले जिसमें से दूसरा पेनल्टी स्ट्रोक में बदल गया चूंकि फ्लिक पर एस के उथप्पा का हाथ लग गया था । भारतीयों ने अंपायर के फैसले के खिलाफ रेफरल लिया और कामयाब रहे। पहले क्वार्टर के आखिरी मिनट में भारत को बढत लेने का सुनहरा मौका मिला जब उसे मैच का पहला पेनल्टी कार्नर मिला लेकिन गुरजिंदर सिंह की फ्लिक को निकोलस जाकोबी ने बचा लिया।

दूसरे क्वार्टर में दोनों टीमों ने काफी तेज रफ्तार से खेला और मौके बनाये लेकिन जर्मनी का दबदबा रहा। श्रीजेश ने दूसरे क्वार्टर में दो बार जर्मनी के गोल बचाये। पहले उन्होंने क्रिस्टोफर रूर का गोल बचाया और फिर मार्टिन ज्विकेर को गोल करने से रोका। ब्रेक के बाद जर्मन टीम काफी आक्रामक होकर खेलने लगी और जल्दी ही तीसरा पेनल्टी कार्नर बनाया लेकिन एक बार फिर श्रीजेश उनकी कामयाबी के बीच आ गए। उन्होंने मौरित्ज फुत्र्से की दमदार ड्रैग फ्लिक बचाई।

भारतीयों ने एक बार फिर अच्छे मूव बनाये लेकिन फारवर्ड खासकर रमनदीप सिंह और निकिन थिमैया सर्कल के भीतर चूक गए। सरदार को भी गोल करने का मौका मिला जब धरमवीर सिंह ने उन्हें सर्कल के भीतर पास दिया लेकिन भारतीय कप्तान नाकाम रहे। इसके बाद आकाशदीप सिंह को दाहिने फ्लैंक से एस वी सुनील ने पास दिया जिसे वह गोल में नहीं बदल सके। श्रीजेश ने जर्मनी के चौथे पेनल्टी कार्नर पर कप्तान टोबियास हाउके की कोशिश को नाकाम किया।


Check Also

दुखद : महेंद्र सिंह धोनी के मेंटर और रांची क्रिकेट के भीष्म पितामह देवल सहाय का निधन

महेंद्र सिंह धोनी के मार्गदर्शक कहलाए जाने वाले देवल सहाय का 73 साल की उम्र में …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *