Home >> Breaking News >> बीजेपी नेता साक्षी महाराज ने गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को बताया देशभक्त

बीजेपी नेता साक्षी महाराज ने गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे को बताया देशभक्त


नई दिल्ली,(एजेंसी)11 दिसंबर । नरेंद्र मोदी की सरकार आने के बाद उन विवादित मुद्दों को जोर शोर से हवा मिल रही है जो अब-तक दबे हुए थे और इसी कड़ी में राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे के महिमामंडन का मामला सामने आया है।

Nathu Ram Godse

महात्मा गांधी की हत्या करने वाला व्यक्ति नाथूराम गोडसे

राज्यसभा में आज दो बार नाथूराम गोडसे के महिमामंडन के सवाल पर सदन का काम ठप हुआ। कांग्रेस सांसद हुसैन दलवई ने राज्यसभा में महाराष्ट्र में नाथूराम गोडसे की पूण्यतिथि पर शौर्य दिवस मनाने का मुद्दा उठाया।

उन्होंने कहा कि इससे संबंधित कार्यक्रम में दो विधायकों को न्योता दिया गया है।

दलवी ने कहा कि इसके लिए भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) जिम्मेदार है। उन्होंने कहा, “वे जानबूझ कर राष्ट्रपिता के हत्यारे का शौर्य दिवस मना रहे हैं। उन्होंने आगरा में जबरन धर्मातरण किया और अब यह कर रहे हैं।”

उन्होंने कहा, “मैंने महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री को इसके संबंध में पत्र लिखा है।”

इसके बाद सदन में सदस्यों को हंगामा करते देखा गया और अन्य विपक्षी पार्टी के सांसद भी इसमें शामिल हो गए।

कुछ सांसद सभापति की आसंदी के करीब जमा हो गए और उन्होंने सरकार के खिलाफ नारेबाजी की।

संसदीय कार्य राज्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि सरकार महात्मा गांधी के हत्यारे का किसी भी रूप में समर्थन नहीं कर रही है।

नकवी ने कहा, “इस तरह की भाषा अस्वीकार्य है।”

हंगामा आगे भी जारी रहा, जिसके बाद उप सभापति पी.जे.कुरियन ने दोपहर तक सदन की कार्यवाही स्थगित कर दी। जब सदन की कार्यवाही दोबारा शुरू हुई, हंगामा जारी रहा, जिसके बाद एकबार फिर कार्यवाही 10 मिनट के लिए स्थगित करनी पड़ी।

दूसरी बार हुए स्थगन के बाद कांग्रेस नेता आनंद शर्मा ने कहा कि उन्हें भरोसा है कि सरकार महात्मा गांधी के हत्यारे का समर्थन नहीं करेगी और पूरे सदन को इस मुद्दे पर एकजुट हो कर बोलना चाहिए।

शर्मा ने कहा, “विपक्ष भी सदन की कार्यवाही चाहती है। सरकार कभी भी राष्ट्रपिता के हत्यारे की प्रशंसा को नहीं करे। सदन को एक आवाज में बात करनी चाहिए। हमें एक आवाज में इसका विरोध करना होगा।”

इधर संसदीय कार्य मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि गोडसे की प्रशंसा का सवाल पैदा नहीं होता।

नायडू ने कहा, “किसी भी व्यक्ति द्वारा महात्मा गांधी के हत्यारे की प्रशंसा करने वाले शब्द को स्वीकारने का सवाल पैदा नहीं होता। ऐसे लोगों के साथ किसी के जुड़ने का कोई सवाल पैदा नहीं होता। मैं ऑन रिकार्ड यह बात कह रहा हूं।”

‘गोडसे देशभक्त हैं’

दूसरी ओर बीजेपी के नेता साक्षी महाराज का कहना है कि नाथूराम गोडसे देशभक्त हैं और उन्होंने गलती से महात्मा गांधी को मार दिया।

हुसैन दलवई का कहना है कि जब से मोदी सरकार आई है तो तब से ऐसे मुद्दों को हवा दी जा रही है।

आपको बता दें कि 30 जनवरी 1948 को महात्मा गांधी की हत्या कर दी गई थी।


Check Also

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह 25 जून को करेंगे कोचीन शिपयार्ड लिमिटेड का दौरा

आधिकारिक सूत्रों ने मंगलवार को कहा कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह शुक्रवार 25 जून को …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *