Home >> Breaking News >> PM मोदी ने की ‘मन की बात’, नशे पर बोले-ड्रग्स का होता है ‘3डी’ असर

PM मोदी ने की ‘मन की बात’, नशे पर बोले-ड्रग्स का होता है ‘3डी’ असर


Mann Ki Batt

नई दिल्ली, 14 दिसम्बर 2014 । प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रविवार को तीसरी बार रेडियो के जरिए देश के लोगों के साथ अपने ‘मन की बात’ की। इस बार पीएम मोदी ने युवाओं में बढ़ती नशे की लत पर चिंता जताते हुए अपनी बात रखी। पीएम ने कहा कि नशा एक मानसिक-सामाजिक बुराई है और इससे निपटने के लिए सामूहिक प्रयास करने होंगे। उन्होंने कहा कि नशा हमारे जीवन में 3डी ‘डिस्ट्रक्शन, डार्कनेस और डिवास्टेशन’ लाता है।
मोदी ने कहा, ‘दुख बांटने से कम होता है और सुख बांटने से बढ़ता है। मैं ‘मन की बात’ में कुछ अपनी पीड़ा और सुख आपसे बांटता हूं। जब किसी परिवार का बेटा किसी बुरी आदत में फंस जाता है तो पूरा परिवार तबाह हो जाता है। हम नशे को बुरा न माने, नशे की लत को बुरा मानना चाहिए। बच्चा बुरा नहीं है, नशा बुरा है। नशे के खिलाफ सबको मिलकर लड़ना होगा। टुकड़ों में काम करने से समस्या का समाधान नहीं निकलेगा। यह अकेले का काम नहीं है। नशे को दूर करने के लिए रास्ते ढूढ़ने होंगे। सरकार भी इस दिशा में काम कर रही है।’

पीएम ने कहा, ‘नशे के खिलाफ मैंने पंजाब की माताओं में गुस्सा देखा है। नशा 3डी लाता है-डिस्ट्रक्शन, डार्कनेस और डिवास्टेशन। ड्रग्स की बिक्री से माफियाओं के पास पहुंचना वाला पैसा आतंकवादी गतिविधियों में इस्तेमाल होता है और आतंक की गोली हमारे जवानों के सीने में लगती है।’ पीएम ने कहा कि युवाओं को स्वामी विवेकानंद के विचारों को अपने जीवन में उतारना चाहिए।

पीएम मोदी ने कहा, ‘युवकों को अपने जीवन में लक्ष्य तय करना होगा। जीवन में लक्ष्य की कमी होने पर युवा नशे की ओर जाते हैं। जीवन में सपने होने चाहिए। युवा जिस पैसे से नशा खरीदता है, उस पैसे से बहुत कुछ हो सकता है।’ उन्होंने कहा, ‘बच्चों को नशे की लत धीरे-धीरे लगती है। परिवार और माता-पिता को बच्चों की इस लत पर नजर रखनी चाहिए। बच्चे को बदलाव को बारीकी से देखें तो पता चल जाएगा। बच्चे में बुरी आदत अचानक नहीं आती। माता-पिता जो काम कर सकते हैं, वह कोई नहीं कर सकता।’

गौरतलब है कि पीएम मोदी ने तीसरी बार रेडियो के जरिए अपनी ‘मन की बात’ लोगों से की। पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी के बाद मोदी दूसरे पीएम हैं जो रेडियो के जरिए आम जन से अपने ‘मन की बात’ कर रहे हैं।

पीएम ने योग की महत्ता पर भी अपनी बात रखी। उन्होंने कहा कि संयुक्त राष्ट्र 21 जून को ‘विश्व योग दिवस’ के रूप में मनाएगा। विश्व के 177 देशों ने सर्वसम्मति से योग को अपनी स्वीकृति दे दी है। योग से पूरा विश्व जुड़ सकता है।

इस मौके पर पीएम ने नॉर्थ-ईस्ट की प्राकृतिक सुषमा की सराहना की। उन्होंने कहा कि वह हाल ही में वहां गए थे और वहीं के सौंदर्य का आनंद लिया। उन्होंने कहा, ‘प्रकृति देखना है तो नॉर्थ-ईस्ट जाइए। नॉर्थ-ईस्ट अपार संभावनाओं और प्राकृतिक संपदाओं से भरा है।’

पीएम मोदी ने अपना संबोधन समाप्त करने से पहले सभी को क्रिसमस की शुभकामनाएं दीं और कहा कि नए वर्ष 2015 की शुरुआत के बाद किसी रविवार को वह फिर अपने ‘मन की बात’ करेंगे।


Check Also

खुशखबरी दिल्ली में कोरोना रिकवरी दर फिर से 90 फीसदी से ज्यादा पहुची

राजधानी में कोरोना के मामले भले ही तेजी से बढ़ रहे हैं, लेकिन संक्रमित मरीज …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *