Home >> Breaking News >> सिडनी में बंधक संकट : इंफोसिस का दावा, बंधक बनाए गए लोगों में उसका एक कर्मचारी शामिल

सिडनी में बंधक संकट : इंफोसिस का दावा, बंधक बनाए गए लोगों में उसका एक कर्मचारी शामिल


hostage_320_121514035523

सिडनी 15 दिसम्बर 2014 । इस बीच, आईटी कंपनी इंफोसिस ने दावा किया है कि ऑस्ट्रेलिया के मार्टिन प्लेस स्थित लिंड्ट चॉकलेट कैफे में बंधक बनाए गए लोगों में उसका एक भारतीय कर्मचारी शामिल है। कंपनी ने एक बयान जारी इस बात की पुष्टि की है। हालांकि, संसदीय कार्य मंत्री वेंकैया नायडू ने कहा कि बंधक बनाए गए लोगों में कोई भारतीय है कि नहीं इस बात की अभी पुष्टि नहीं की जा सकती।

इंफोसिस की ओर से जारी बयान में कहा गया, ‘हम इस बात की पुष्टि कर सकते हैं कि लिंड्ट चॉकलेट कैफे में बंधक बनाए गए लोगों में इंफोसिस का एक कर्मचारी शामिल है। हमने कर्मचारी के परिवार को इस बारे में सूचित कर दिया है और संकट की इस घड़ी में हम परिवार को हर संभव सहयोग दे रहे हैं।’
एक हथियारबंद व्यक्ति द्वारा सोमवार को ऑस्ट्रेलिया के चर्चित कैफे में कई लोगों को बंधक बनाए जाने के बाद ऑस्ट्रेलिया में सुरक्षा कड़ी कर दी गई। हथियारबंद व्यक्ति ने आज ऑस्ट्रेलिया के मार्टिन प्लेस स्थित मशहूर कैफे लिंड्ट चॉकलेट कैफे में अनेक लोगों को बंधक बना लिया और उसकी खिड़की पर अरबी लिपि में लिखा इस्लामी झंडा भी लहराया।

अधिकारियों ने कैफे के इर्द-गिर्द की सड़कें बंद कर दी है और निकट की इमारतों से लोगों को हटा लिया। शहर के कारोबारी इलाके के मध्य में स्थित कैफे की इस घटना के बाद रेल सेवा भी निलंबित कर दी गई। सिडनी के मध्य में होने के कारण मार्टिन प्लेस को संसदीय, कानूनी और खुदरा इलाके के संगम के तौर पर जाना जाता है और इसके कारण यहां आम लोगों की गहमागहमी बनी रहती है।

टेलीविजन फुटेज में यह दिख रहा है कि कैफे की खिड़की पर काला झंडा लगा है और लोग खिड़के पे हाथ टिकाए खड़े हैं। यह ‘इस्लामिक स्टेट’ झंडा नहीं है, बल्कि नमाजों में रोजाना इस्तेमाल होने वाला झंडा है। लिंड्ट ऑस्ट्रेलिया के कार्यकारी का कहना है कि कैफे में करीब 10 कर्मी और 30 ग्राहक फंसे हुए हैं। पुलिस ने बंधकों की संख्या के बारे में बयान देने से इनकार कर दिया।

न्यू साउथ वेल्स के पुलिस कमिश्नर एंड्रयू साइपियोन ने बताया कि मामले में सिर्फ एक बंदूकधारी शामिल है। उन्होंने बताया, ‘मैं आपको इस बात की पुष्टि कर सकता हूं कि शहर के मार्टिन प्लेस इलाका स्थित कैफे में एक हथियारबंद अपराधी ने परिसर के अंदर कई सारे लोगों को बंधक बना लिया है।’ हालांकि उन्होंने यह साफ किया कि पुलिस बंधक बनाने वाले के साथ सीधे तौर पर संपर्क में नहीं है।

उन्होंने कहा, ‘मेरा मानना है कि हमारा इस हथियारबंद व्यक्ति से संपर्क नहीं रहा है और हम अब तक यह बताने की स्थिति में नहीं हैं कि व्यक्ति कहां का है?’ साइपियोन ने बताया कि फिलहाल पुलिस इसे बंधक मामले के तौर पर देख रही है लेकिन वह इसे ‘आतंकवादी गतिविधि के रूप में भी देख रही है।’ उन्होंने बताया, ‘‘जरूरत पड़ने पर हम शांति बहाल करने के लिए जब तक जरूरी होगा काम करते रहेंगे।’ मार्टिन प्लेस, सिडनी ओपेरा हाउस, स्टेट लाइब्रेरी और सभी अदालतों को खाली करा लिया गया है।

ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री टोनी एबट ने अपने कैबिनेट के सुरक्षा मामलों के अधिकारियों के साथ बैठक की और बंधक मामले पर कार्रवाई पर चर्चा की। एबॅट ने कहा, ‘जाहिर तौर पर यह गंभीर चिंता का मामला है लेकिन सभी ऑस्ट्रेलिया वासियों को मैं आश्वस्त करना चाहता हूं कि हमारी कानून प्रवर्तन और सुरक्षा एजेंसियों को बेहतर प्रशिक्षण प्राप्त है तथा वे हथियारों से लैस हैं एवं वे बेहद पेशेवर अंदाज में पेश आ रही हैं।’

इस बीच छह बंधक बाहर निकलने में सफल रहे हैं जहां एक बंदूकधारी ने कई लोगों को बंधक बना लिया है। वहां खिड़की पर एक इस्लामी झंडा भी लटका देखा गया है । न्यू साउथ वेल्स की उपायुक्त कैथरीन बर्न ने बताया कि मार्टिन प्लेस स्थित लिंड्ट कैफे से बाहर आए तीन लोग पुलिस के साथ हैं । कैथरीन ने कहा, ‘मेरे पास जो सूचना है, वह यह है कि अभी किसी को भी कोई नुकसान नहीं पहुंचा है या घायल नहीं हुआ है ।’ उन्होंने कहा, ‘‘हम स्पष्ट तौर पर ऐसी स्थिति से निपट रहे हैं जो विकसित हो रही है और सबसे महत्वपूर्ण चीज उन बंधकों की सुरक्षा है तथा मैं ऐसा कुछ नहीं करना चाहूंगी जिससे उन बंधकों की सुरक्षा पर असर पड़े ।’ कैथरीन ने कहा कि वह कैफे में मौजूद लोगों की संख्या की पुष्टि नहीं कर सकतीं। सिडनी में सुरक्षा एहतियात के तौर पर मार्टिन प्लेस के नजदीक अमेरिकी वाणिज्य दूतावास और अन्य इमारतों को खाली करा लिया गया है।
आतंकवादी हमलों के लिए प्रशिक्षित सुरक्षार्मियों, अन्य अधिकारियों सहित सैकड़ों पुलिसकर्मियों को वहां भेज दिया गया है और यातायात पुलिस अधिकारी सड़कों पर नजर बनाए हुए हैं। समूचे शहर में हजारों कर्मियों को घर जल्दी भेज दिया गया और शहर की कई प्रमुख इमारतों को खाली करा लिया गया है।
ऑस्ट्रेलिया के सिडनी में एक लोकप्रिय कैफे में लोगों को बंधक बनाने वाले बंदूकधारी ने इस्लामिक स्टेट का झंडा मांगा है और वह प्रधानमंत्री टोनी एबट से बात करना चाहता है । यह जानकारी आज एक मीडिया रिपोर्ट में दी गई। बंदूकधारी ने अपनी मांगें बंधकों के जरिए पहुंचाईं जिन्होंने नेटवर्क टेन न्यूज चैनल से बात की । रिपोर्ट के अनुसार सशस्त्र व्यक्ति ने बंधकों को बताया था कि उसने चार बम लगाए हैं।

स्काई न्यूज चैनल ने नेटवर्क टेन के हवाले से कहा कि बंदूकधारी ने कहा कि दो बम मार्टिन प्लेस स्थित लिंड्ट चॉकलेट कैफे में लगाए गए हैं और अन्य सेंट्रल बिजनेस डिस्ट्रिक्ट में अन्यत्र लगाए गए हैं । बंदूकधारी ने इस्लामिक स्टेट का झंडा मुहैया कराने और एबट से बात कराने की मांग की । नेटवर्क टेन ने कथित तौर पर कैफे के अंदर मौजूद दो बंधकों से बात की जो व्यक्ति की मांगों के बारे में बताते समय बदहवास थे ।

इसने कहा, ‘व्यक्ति जिसने बंधकों को खुद को ‘भाई’ कहकर बुलाने के लिए बाध्य किया, ने कहा कि यदि उसे झंडा मुहैया करा दिया जाता है तो वह एक बंधक को छोड़ देगा।’ इस बीच, न्यू साउथवेल्स पुलिस ने टास्क फोर्स पायनीयर को सक्रिय कर दिया है जिससे पता चलता है कि स्थिति को अब आतंकवादी हमले के रूप में माना जा रहा है।

न्यू साउथवेल्स की उपायुक्त कैथरीन ने टास्क फोर्स को सक्रिय किए जाने की पुष्टि की। उन्होंने बंधक प्रकरण शुरू होने के छह घंटे बाद लिंड्ट चॉकलेट कैफे से तीन लोगों के बचकर बाहर आने के कुछ क्षण बाद इसकी घोषणा की। कैफे के भीतर मौजूद लोगों की संख्या के बारे में पुष्टि नहीं हो पाई है।


Check Also

अमेरिकी राज्य कोलोराडो में हुई गोलीबारी, 3 लोगों की मौके पर हुई मौत

वाशिंगटन: अमेरिकी राज्य कोलोराडो में गोलीबारी में कम से कम तीन लोगों की मौत हो …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *