Home >> Breaking News >> आरएसएस आखिर चाहता क्या है ? विकास या हिंदू राष्ट्र ?

आरएसएस आखिर चाहता क्या है ? विकास या हिंदू राष्ट्र ?


नई दिल्ली,(एजेंसी)21 दिसंबर । आरएसएस और उससे जुडे संगठन पिछले कुछ दिनों से धर्मांतरण के मुद्दे पर विवादास्पद बयान दे रहे हैं। कल कोलकाता में आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने भारत को हिंदू राष्ट्र बनाने की वकालत की तो आज वीएचपी नेता अशोक सिंघल ने कह दिया कि ईसाईयों और मुस्लिमों की वजह से दुनिया विश्वुयुद्ध के कगार पर पहुंच चुकी है।

Mohan Bhagwat

आरएसएस आखिर चाहता क्या है ? विकास या हिंदू राष्ट्र ?

सिंघल ने कहा है कि, ”हम धर्म परिवर्तन के लिए नहीं, लोगों के दिल जीतने के लिए निकले हैं । ”

सिंघल ने आगे कहा, ”इस्लाम और ईसाई जो कर रहे हैं उससे लग रहा है कि दुनिया युद्ध के सामने खड़ी है। अशोक सिंघल ने आरोप लगाया है कि इस्लाम, ईसाई औऱ कम्युनिस्ट विश्व युद्ध के खिलाड़ी हैं। उन्होंने कहा कि हम इसमें शामिल नहीं हैं। ”

इसके साथ ही सिंघल ने कहा कि यह सरकार हिंदू की रक्षा करने वाली है. पिछले कुछ दिनों से इस तरह के बयान देश के हर कोनों से सुने जा रहे हैं। आगरा के धर्मांतरण पर मचा बवाल अभी थमा भी नहीं हैं कि गुजरात के वलसाड में वीएचपी ने अपने तथाकथित घर वापसी कार्यक्रम के तहत 300 ईसाईंयों को हिंदू धर्म में दीक्षित करा दिया।

विपक्ष के साथ साथ अब देश के धार्मिक संगठन भी पीएम से मांग कर रहे हैं कि वह धर्मांतरण के मुद्दे पर अपनी चुप्पी तोड़ें।

पीएम मोदी इस मसले पर शुरू से खामोश हैं। दूसरी तरफ आरएसएस और उससे जुड़े संगठन लगातार विवादास्पद बयान दे रहे हैं। फिर वही सवाल, आऱएसएस आखिर चाहता क्या है ? विकास या हिंदू राष्ट्र ?


Check Also

बांदा जनपद की ये अनूठी शादी, प्रकृति के अद्भुत नजारे के बीच बैलगाड़ी पर हुई दुल्हन की विदाई

20वीं सदी में 60 के दशक तक होने वाली शादी का नजारा अगर 21वीं सदी …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *