Home >> Breaking News >> LIVE UPDATE: झारखंड में बहुमत से दूर हुई BJP, पर कश्मीर में बनी नंबर वन

LIVE UPDATE: झारखंड में बहुमत से दूर हुई BJP, पर कश्मीर में बनी नंबर वन


रांची/जम्मू,(एजेंसी)23दिसंबर । झारखंड और जम्मू-कश्मीर के विधानसभा चुनावों में भारतीय जनता पार्टी (बीजेपी) बढ़िया प्रदर्शन करती नजर आ रही है। मंगलवार सुबह 8 बजे से वोटों की गिनती जारी है। 81 सदस्यीय झारखंड विधानसभा के रुझानों में एकबारगी बहुमत को छूने के बाद बीजेपी के आंकड़े कुछ गिरे हैं और वह जादुई नंबर से दो सीट पीछे है।

Jharkhand & Jammu 1
दोनों प्रदेशों में हुआ था रिकॉर्ड मतदान (फाइल फोटो: रॉयटर्स)

वहीं 87 सदस्यीय जम्मू-कश्मीर विधानसभा में बीजेपी 24 सीटों पर बढ़त बनाए हुए है और नंबर-एक पार्टी पीडीपी को टक्कर दे रही है। यहां नेशनल कॉन्फ्रेंस और कांग्रेस के भी ठीक-ठाक प्रदर्शन ने समीकरण बदल दिए हैं। सूबे में पीडीपी 30, बीजेपी 26, नेशनल कॉन्फ्रेंस 12 और कांग्रेस 14 सीटों पर आगे है। याद रहे कि इस बार दोनों ही प्रदेशों में रिकॉर्ड मतदान हुआ है।

झारखंड की स्थिति
झारखंड में बीजेपी गठबंधन 39, हेमंत सोरेन की जेएमएम 21, कांग्रेस गठबंधन और जेवीएम आठ-आठ सीटों पर आगे है। चौंकाने वाली बात है कि झारखंड के तीन पूर्व मुख्यमंत्री मधु कोड़ा, हेमंत सोरेन, अर्जुन मुंडा और पूर्व डिप्टी सीएम सुदेश महतो अपनी सीटों से पीछे चल रहे हैं। हेमंत सोरेन दो सीटों से चुनाव लड़े थे। दुमका में उनकी हालत खराब है, लेकिन बरहैट सीट से वह बढ़त बनाए हुए हैं।

कश्मीर का हाल
जम्मू कश्मीर से पहला नतीजा खन्यार सीट से आ रहा है। यहां नेशनल कॉन्फ्रेंस के अली सागर ने जीत दर्ज की है। सूबे में अब तक तीन पार्टियों की ही सत्ता रही है लेकिन इस बार वहां का राजनीतिक मूड अलग है। सूबे में बीजेपी अच्छे प्रदर्शन की उम्मीदों पर खरी उतरती तो दिख रही है लेकिन अमित शाह के ‘मिशन 44 प्लस’ से काफी दूर है। रुझानों के बाद केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने कहा है कि बीजेपी दोनों प्रदेशों में सरकार बनाएगी. सवाल यह है कि जम्मू-कश्मीर में उसका सहयोगी कौन होगा, नेशनल कॉन्फ्रेंस या पीडीपी? वहीं कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने पीडीपी और नेशनल कॉन्फ्रेंस दोनों के लिए दरवाजे खुले होने का आमंत्रण देकर मामले को और भी पेचीदा बना दिया है।

एग्जिट पोल की भविष्यवाणी गलत?
सी-वोटर के चुनावी सर्वे ने जम्मू कश्मीर में बीजेपी को 27 से 33 सीटें मिलने की भविष्यवाणी की थी, वहीं पीडीपी को सबसे ज्यादा 38 सीटें मिलने का अनुमान जताया गया था। लेकिन रुझानों के समीकरण इससे अलग हैं। अब नई दोस्ती को लेकर कयास लगाए जाने शुरू हो गए हैं। हालांकि उमर अब्दुल्ला अकेले चलने का एलान कर चुके हैं, लेकिन सियासत अनिश्चितताओं का खेल है। उधर, महबूबा मुफ्ती की पीडीपी और कांग्रेस के साथ आने की अटकलें भी तेज हैं।

Jharkhand & Jammu 2

उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर जब अटल बिहारी वाजपेयी को भारत रत्न दिये जाने की बात कही तो चर्चा होने लगी कि जम्मू कश्मीर में वह बीजेपी की सियासी सहयोगी होने वाली है, लेकिन उन्होंने फौरन कह दिया कि वो किसी भी दल को समर्थन नहीं देगे।

इधर, महबूबा मुफ्ती दिल्ली में जमी हुई हैं। पहले माना जा रहा था कि उनकी पार्टी कांग्रेस से मिलकर सरकार बनाने की कोशिश करेगी। लेकिन अब बताया जा रहा है कि पीडीपी बीजेपी के साथ मिलकर काम करने को इच्छुक नजर आ रही है। हालांकि तस्वीर अभी धुंधली है।

झारखंड में पहली बार बीजेपी की सरकार?
इधर, एग्जिट पोल झारखंड में बीजेपी को 41 से 49 सीटें दे रहे थे, लेकिन रुझानों में बीजेपी इससे थोड़ा पीछे है। हालांकि इतनी भी पीछे नहीं कि उसे सरकार बनाने में मुश्किल हो। 13 साल में पहली बार झारखंड में बीजेपी बहुमत से सरकार बना लेगी, ऐसा अब तक के रुझानों से लग रहा है। झारखंड में 2005 और 2009 में हुए विधानसभा चुनावों में राज्य में त्रिशंकु विधानसभा का गठन हुआ था। यहां पिछले 14 साल में 9 सरकारें बनीं हैं।

लोकसभा चुनाव के बाद सूबे के हाथ से निकलने का सिलसिला जारी है। सबसे पहले महाराष्ट्र और हरियाणा से कांग्रेस का सफाया हो गया। बीजेपी इन दोनों ही सूबों में सत्ता चला रही है। अब झारखंड भी बीजेपी के कब्जे में आता दिख रहा है।

Jharkhand & Jammu 3

सूबा बनने के बाद ये पहला मौका होगा जब बीजेपी अपने बूते वहां सरकार बना सकेगी। पिछली कई सरकारों की लूटखसोट और अस्थिरता ने लोगों को नरेन्द्र मोदी की ओर देखने को मजबूर कर दिया है। जिन्होंने ये नारा दिया कि आपकी तिजोरी खोलने का अधिकार सिर्फ आपके पास होगा।

ये चुनावी सर्वे कह रहे हैं कि आने वाले दिनों मोदी की अगुवाई में बीजेपी का साम्राज्य और बड़ा होगा। यहीं से पूरे विपक्ष के लिए बड़ी दिक्कत शुरू हो रही है, क्योंकि अगले साल बिहार में भी चुनाव होने हैं। नरेंद्र मोदी के मिशन का वो एक बहुत ही अहम पड़ाव है जिसे हासिल करने के लिए वो पूरा जोर लगा देंगे।


Check Also

कोरोना संकट : जयपुर राजघराना सादगी भरा जीवन जीने वाले पूर्व सांसद पृथ्वीराज सिंह का निधन

जयपुर राजघराने में भी खौफनाक कोरोना वायरस ने दस्तक दे दी है। इसकी वजह से …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *