Wednesday , 25 November 2020
Home >> Breaking News >> कालाधन रोकने के लिए नकदी रहित लेनदेन बेहतर : पीएम

कालाधन रोकने के लिए नकदी रहित लेनदेन बेहतर : पीएम


images (1)
मुंबई ,(एजेंसी) 2 जनवरी । नकदी रहित बैंकिंग लेनदेन पर जोर देते हुए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने कहा कि इस तरह का लेनदेन कालेधन की समस्या का सबसे बेहतर समाधान हो सकता है। उन्होंने बैंकों से लोगों को सोने में भारी निवेश से हतोत्साहित करने के तरीके निकालने को कहा। मोदी ने बैंकों से सामाजिक लिहाज से भी अधिक जिम्मेदार बनने को कहा।

प्रधानमंत्री ने बैंकों से कहा कि वह स्वच्छता के क्षेत्र में काम करने वाले उद्यमियों को समर्थन दें। साफ-सफाई और कचरा प्रबंधन के उद्यम लगाने वालों को बैंकों को समर्थन देना चाहिए। प्रधानमंत्री यहां निजी क्षेत्र के प्रमुख बैंक आईसीआईसीआई के एक कार्यक्रम में बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि भारत को ज्यादा से ज्यादा नकदी रहित लेनदेन के लिये प्रतिस्पर्धा में आगे निकलना चाहिए क्योंकि यह कालेधन की समस्या से निपटने के लिए बेहतर समाधान हो सकता है।

उन्होंने कहा, ‘कालेधन पर अंकुश लगाने के कई समाधानों में से नकदी रहित लेनदेन एक सबसे महत्वपूर्ण समाधान है। यह एक बडा अवसर है और हमें इसे बढ़ावा देना चाहिए। लोगों को नकदी रहित लेनदेन की अदात डालनी चाहिए।’ मोदी ने यह भी कहा कि भारतीयों को बचत की अच्छी आदत है लेकिन सुरक्षा के लिहाज से बेहतर निवेश से उनकी यह बचत सोने में लग जाती है। बैंकों के सामने अब यह चुनौती है कि वह सोने में होने वाले भारी निवेश को हतोत्साहित करने के तौर तरीके निकालें।

प्रधानमंत्री ने कहा, ‘बैंकों के सामने यह चुनौती है कि वह लोगों को आश्वस्त करें कि बैंक खाता होने पर वह अपनी बचत जरुरत पड़ने पर आसानी से प्राप्त कर सकते हैं।’ उन्होंने कहा कि बैंक यदि ऐसा करने में सफल होते हैं तो वह सामाजिक बदलाव लाने में एक बेहतर एजेंट की भूमिका निभाएंगे।

प्रधानमंत्री ने आईसीआईसीआई बैंक के यहां आयोजित कार्यक्रम में ‘आईसीआईसीआई डिजिटल ग्राम’ राष्ट्र को समर्पित किया। आईसीआईसीआई बैंक ने गुजरात के अकोदरा गांव को ‘डिजिटल ग्राम’ के तौर पर विकसित करने के लिए गोद लिया है। इस गांव में बैंक नकदी रहित बैंकिंग सेवाए, ई-स्वास्थ्य, डिजिटल सुविधाओं से युक्त स्कूल और मंडियों की सुविधा उपलब्ध कराएगा।

मोदी ने कहा, ‘भारतीय उपमहाद्वीप और चीन सहित यह क्षेत्र, दुनिया का एक ऐसा क्षेत्र हैं जहां लोगों को बचत की आदत है। हमारी यह परंपरा रही है जिसमें लोग अपनी आगामी पीढ़ी के लिए बचत करते हैं।’ पीएम ने कहा, ‘दुनिया में ऐसे भी क्षेत्र हैं जहां क्रेडिट कार्ड की संस्कृति है वहां लोगों के हाथ में और कुछ नहीं बल्कि क्रेडिट कार्ड होता है। लेकिन हमारी अलग तरह की सोच है। हमारी बचत करने की परंपरा रही है।’

प्रधानमंत्री ने पिछले साल ‘स्वच्छ भारत अभियान’ की शुरुआत की थी। उन्होंने कहा कि बैंकों को सामाजिक सरोकारों से भी जुड़ना चाहिए और साफ सफाई से जुड़े उद्यमियों को भी वित्तीय सुविधाएं उपलब्ध करानी चाहिए। उन्होंने सवाल किया, ‘क्या हम स्वच्छता उद्यमी तैयार कर सकते हैं ? जलशोधन एवं ठोस कूड़ा करकट प्रबंधन क्षेत्र में अपार संभावनाएं हैं।’

प्रधानमंत्री ने इस अवसर पर आईसीआईसीआई समूह को उसके 60 वर्ष पूरे होने पर बधाई दी और कहा कि बैंक के वरिष्ठ टीम को यह सोचना चाहिए कि 75 वर्ष में उन्हें क्या हासिल करना है और उनका सामाजिक एजेंडा क्या होगा।


Check Also

तमिलनाडु और पुडुचेरी में तूफान का खतरा, भारी तबाही मचा सकता है ‘निवार’ NDRF की 12 टीमें तैनात

बंगाल की खाड़ी के ऊपर बना कम दबाव का क्षेत्र चक्रवाती तूफान में बदल गया …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *