Home >> Breaking News >> कोयला श्रमिक जाएंगे 5 दिन की हड़ताल पर, हो सकता है बिजली संकट

कोयला श्रमिक जाएंगे 5 दिन की हड़ताल पर, हो सकता है बिजली संकट


Coal
नई दिल्ली ,(एजेंसी) 5 जनवरी । देशभर में कोल इंडिया और अन्य प्रमुख कोयला कंपनियों के श्रमिक मंगलवार से पांच दिवसीय हड़ताल पर रहेंगे। इस दौरान कोयले की आपूर्ति प्रभावित होने से हर राज्य में बिजली उत्पादन प्रभावित हो सकता है। यह हड़ताल अप्रत्याशित नहीं है।

हड़ताल का फैसला 17 दिसंबर 2014 को रांची में हुई कोयला मजदूर संघों की एक बैठक में लिया गया था। प्रमुख मजदूर संगठन भारतीय ट्रेड यूनियन केंद्र (सीटू) ने इस हड़ताल को समर्थन देने की घोषणा उसी दिन कर दी थी।

सीटू की वेबसाइट के मुताबिक, अध्यादेश और कोयला खदान (विशेष प्रावधान) विधेयक-2014 के जरिए कोयला खनन क्षेत्र का निजीकरण करने के विरोध में हड़ताल करने का फैसला किया गया है। कोयला क्षेत्र से जुड़े प्रमुख मजदूर संघों ने शनिवार को भी देश भर में अपने सदस्यों से मंगलवार से पांच दिवसीय हड़ताल पर जाने का आह्वान किया है।

कोल इंडिया लिमिटेड तथा अन्य सरकारी कोयला कंपनी के पांचों प्रमुख मजदूर संघों बीएमएस, इंटक, एटक, सीटू और एचएमएस ने हड़ताल की घोषणा की है। इस दौरान देश भर में कोयला क्षेत्र के करीब 5.5 लाख कामगारों के हड़ताल पर रहने की उम्मीद है। कोयला क्षेत्र के अधिकारियों के संघों ने भी हड़ताल को समर्थन दिया है।

मजदूर संघ के एक पदाधिकारी ने कहा कि हड़ताल के कारण कोल इंडिया को रोजाना 15 लाख टन का उत्पादन घाटा होगा, जिसका मतलब है कि रोजाना 150 करोड़ रुपये का नुकसान। यही नहीं, यह हड़ताल ऐसे समय में किया जा रहा है, जब कई बिजली कंपनियां कोयले की कमी से जूझ रही हैं। ऐसे में हड़ताल के कारण आपूर्ति बाधित होने से बिजली उत्पादन सीधे तौर पर प्रभावित हो सकता है।


Check Also

दुखद : दिल्ली में कोरोना से मरने वालों की संख्या 9342 पहुची

लंबे समय से कोरोना की मार से कराह रही राजधानी दिल्ली के लिए राहत की …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *