Saturday , 28 November 2020
Home >> Breaking News >> कोल हड़ताल शुरू, प्लांटों में 7 दिन का ही कोयला

कोल हड़ताल शुरू, प्लांटों में 7 दिन का ही कोयला


caol-sector नई दिल्ली,(एजेंसी) 7 जनवरी । देशभर के कोयला मजदूरों ने पांच दिन की हड़ताल शुरू कर दी है। इससे रोज 15 लाख टन कोयले का उत्पादन और बिजलीघरों को कोयले की सप्लाई प्रभावित हो सकती है। हड़ताल का आह्वान पांच प्रमुख मजदूर संगठनों ने किया है, जिनमें बीजेपी समर्थित भारतीय मजदूर संघ (बीएमएस) भी है। इसे 1977 के बाद की अब तक की सबसे बड़ी औद्योगिक हड़ताल माना जा रहा है। ये मजदूर यूनियन सरकारी कंपनी कोल इंडिया के विनिवेश और पुनर्गठन के खिलाफ आंदोलन कर रही हैं। वे अपनी अन्य मांगों के साथ ऐसी नीतियों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं, जिसमें कोल सेक्टर के निजीकरण की आशंका समाहित है। सरकार इस हड़ताल को खत्म करने के प्रयास में जुट गई है। कोयला मंत्री पीयूष गोयल बुधवार को कोयला ट्रेड यूनियनों से मिलेंगे। गोयल ने शानिवार को यूनियन के लीडर को बुलाया था, मगर उन्होंने आने से इनकार कर दिया।

पावर प्रॉडक्शन पर असर
हड़ताल से रोजाना 15 लाख टन तक कोयला प्रॉडक्शन प्रभावित हो सकता है और इससे पावर प्लांटों को सप्लाई प्रभावित हो सकती है, जो पहले से ईंधन संकट से जूझ रहे हैं। कोल इंडिया के नवनियुक्त अध्यक्ष सुतीर्थ भट्टाचार्य को समस्या सौहार्दपूर्ण तरीके से सुलझने की उम्मीद है। हड़ताल के असर का ठीक-ठीक पता बाद में चलेगा। अखिल भारतीय कोयला मजदूर संघ के नेता जीवन राय ने कहा कि करीब सात लाख कामगार इस हड़ताल में हिस्सा ले रहे हैं और सरकार ने प्रमुख मजदूर संगठनों – बीएमएस, इंटक, एटक, सीटू और एचएमएस – के प्रतिनिधियों की बैठक भी बुलाई है, ताकि इस मामले का समाधान ढूंढा जा सके। कोयला मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार 41 थर्मल प्लांटों के लिए फिलहाल सात दिन का कोयला उपलब्ध है। अगर हड़ताल इससे ज्यादा दिन चली तो बिजली उत्पादन प्रभावित हो सकता है।


Check Also

कश्मीर : आतंकियों ने सुरक्षाबलों पर किया हमला, दो जवान घायल

मध्य कश्मीर के श्रीनगर जिले के एचएमटी इलाके में गुरुवार दोपहर संदिग्ध आतंकियों ने सुरक्षाबलों …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *