Home >> Breaking News >> बिजनस के बहाने ममता और जेटली ने साधे निशाने।

बिजनस के बहाने ममता और जेटली ने साधे निशाने।


Mamtaकोलकाता ,(एजेंसी) 8 जनवरी । मौका वेस्ट बंगाल ग्लोबल बिजनस समिट का था, जिसका आयोजन राज्य में निवेश के लिए उद्योगपतियों को आकर्षित करने के इरादे से किया गया था। इसके पहले दिन डिवेलपमेंट की तमाम बातें हुईं, लेकिन इशारों-इशारों में निशाने भी साधे गए। जहां फाइनैंस मिनिस्टर अरुण जेटली ने कहा कि राज्य की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी की जिम्मेदारी बनती है कि जिन वादों के आधार पर उन्हें जनादेश मिला है, उनको वह पूरा करें। वहीं ममता ने राजनीतिक मतभेदों की वजह से राज्य के विकास में बाधा न आने देने की बात करने के साथ लैंड एक्विजिशन ऐक्ट में ऑर्डिनेंस के जरिये किए गए बदलाव पर परोक्ष रूप से विरोध जताया। ममता ने कहा कि राज्य के पास अपना लैंड बैंक है, लैंड पॉलिसी है और हम जमीन का अधिग्रहण जबरन नहीं करने वाले हैं।

जेटली ने इस आयोजन से इतर बीजेपी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए भी तृणमूल को निशाने पर लिया। उन्होंने संसद के हालिया विंटर सेशन में राज्यसभा की कार्यवाही में बाधा डालने का आरोप टीएमसी पर लगाया। जेटली ने कहा कि चूंकि टीएमसी के नेता सारदा चिट फंड घोटाले में फंसे, इसलिए पार्टी ने राज्यसभा की कार्यवाही में बाधा डाली।

उधर, बिजनस समिट में जेटली ने भरोसा दिलाया कि राज्य के आर्थिक विकास में केंद्र पूरा सहयोग करेगा। जेटली ने कहा कि राजनीतिक मतभेदों के बावजूद भारत राज्यों का एक मजबूत संघ बना हुआ है। इसी समिट में इससे पहले ममता ने इंडिया इंक के बड़े लीडर्स की मौजूदगी में कहा कि राजनीतिक मतभेद की वजह से राज्य में विकास की राह में बाधा नहीं पड़ेगी। इस पर जेटली ने कहा, ‘केंद्र वेस्ट बंगाल सरकार का पूरा समर्थन करेगा और मैं आपको इसका विश्वास दिला रहा हूं।’

सुबह के सत्र में ममता ने कहा था कि एक संघीय ढांचे में एक मजबूत राज्य से ही मजबूत केंद्र का बनना सुनिश्चित होगा और गुड गवर्नेंस के लिए यह भी जरूरी है। ममता की टिप्पणियों पर प्रतिक्रिया देते हुए जेटली ने कहा, ‘आपने ठीक कहा कि हर राज्य को आगे बढ़ना है। आपको राज्य में शासन का जनादेश मिला है और आपकी जिम्मेदारी बनती है कि आप अपने वादे पूरे करें। हमें दिल्ली से देश पर शासन का जनादेश मिला है।’

बीजेपी ट्रेडर्स सेल की मीटिंग में जेटली ने संसद की कार्यवाही में बाधा पड़ने के लिए टीएमसी को निशाने पर लेते हुए कहा, ‘टीएमसी का कहना था कि चूंकि उनके कुछ लोग चिट फंड स्कैंडल में पकड़े गए हैं, लिहाजा हम संसद नहीं चलने देंगे।’ जेटली ने कहा, ‘राज्यसभा चले या नहीं चले, देश नहीं रुकेगा।’


Check Also

ठण्ड का सितम दिल्ली में सोमवार को न्यूनतम तापमान 7 डिग्री सेल्सियस रहने की संभावना : मौसम विभाग

मौसम विभाग के अनुसार सोमवार को भी न्यूनतम तापमान सात डिग्री सेल्सियस के आसपास रहने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *