Home >> Health Tips >> नींद में चलने वाले लोग होते है मल्टी टास्किंग

नींद में चलने वाले लोग होते है मल्टी टास्किंग


नींद में चलने की बीमारी जिसे होती है वो मल्टी टास्किंग होते हैं। दरअसल, वर्चुअल रिएलिटी रिसर्च में पाया गया कि नींद में चलने वालों की बॉडी मूवमेंट और बाकी लोगों के बॉडी मूवमेंट में काफी फर्क होता है। ऐसे लोग न सिर्फ बेहतर तरीके से चल-फिर सकते हैं बल्कि उनका दिमाग भी अलग-अलग दिशाओं में तेजी से सोचकर काम करता है।

शोध्कर्ताओं ने रिसर्च के दौरान नींद में चलने वाले लोगों के साथ साधारण नींद लेने वाले लोगों को एक वर्चुअल टार्गेट की ओर चलने के लिए कहा। इस टेस्ट में पाया गया कि इस टास्क में जब कुछ चुनौतियां डाली गईं तो दोनों तरह के लोगों के प्रदर्शन में काफी फर्क देखा गया।

इन लोगों को चलते-चलते उल्टी गिनती बोलने के लिए कहा गया। इस दौरान जिन लोगों को नींद में चलने की बीमारी थी उन पर इस चुनौती का खास फर्क नहीं देखा गया और ऐसे लोगों ने आसानी से अपना टास्क पूरा कर लिया। 

सामान्य नींद लेने वाले लोगों को इस टास्क को पूरा करने में काफी दिक्कतें आईं। इस टास्क को देखते हुए शोधकर्ताओं ने बताया कि नींद में चलने वाले लोग ज्यादा बेहतर तरीके से बदलावों को समझकर अपने सारे कार्य करते हैं। एक साथ एक समय पर कई समस्याएं आने पर ऐसे लोगों का दिमाग नींद में नहीं चलने वालों की तुलना में बेहतर तरीके से काम करता है। 


Check Also

हाई ब्लड प्रेशर की समस्या से छुटकारा दिलाएगा लहसुन

लहसुन का इस्तेमाल खाने के स्वाद को बढ़ने के लिए जाता है, इसके इस्तेमाल से …