Home >> Breaking News >> अमेरिका और भारत ने द्विपक्षीय संबंधों के मद्देनजर किया है भारी निवेश: जॉन केरी

अमेरिका और भारत ने द्विपक्षीय संबंधों के मद्देनजर किया है भारी निवेश: जॉन केरी


62599-john-kerry-5

गांधीनगर,(एजेंसी) 12 जनवरी । अमेरिकी विदेश मंत्री जॉन केरी ने सोमवार को कहा कि भारत एवं अमेरिका ने द्विपक्षीय संबंधों में निवेश किया है और वे अधिक मजबूत, अधिक सुरक्षित और समृद्ध भविष्य का निर्माण करके इस रिश्ते को प्रगाढ़ बनाना जारी रखेंगे ताकि दुनिया को प्रभावित करने वाली नीतियों पर इसका असर पड़ सके। भारत दौरे पर आए जॉन केरी ने सोमवार को कहा कि दोनों देशों अमेरिका और भारत ने द्विपक्षीय संबंधों के मद्देनजर भारी निवेश किया है।

गांधीनगर में 7वें वाइब्रेंट गुजरात समिट को संबोधित करते हुए केरी ने आज कहा कि यही वो समय है जब दुनिया की सबसे पुरानी लोकतंत्र और बड़ी लोकतंत्र एक दूसरे के साथ अपने संबंधों और रिश्तों को और मजबूत कर रहे हैं। अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अन्य अधिकारियों के साथ चर्चा के दौरान हमने आर्थिक संबंधों की प्रगति और इसे और आगे ले जाने को लेकर समीक्षा की। उन्होंने कहा कि हम इन आर्थिक संबंधों को आगे बढ़ाने के लिए बहुत कुछ कर सकते हैं। हम इस दिशा में काम करना जारी रखेंगे। गौर हो कि भारत में अमेरिकी निवेश 2.4 बिलियन अमेरिकी डॉलर से बढ़कर 28 बिलियन अमेरिकी डॉलर तक जा पहुंचा है। उन्होंने यह भी कहा कि एक दूसरे की सफलताओं में निवेश दोनों देशों के हित में है।

केरी ने चार प्रमुख क्षेत्रों-जलवायु परिवर्तन, रक्षा, असैन्य परमाणु और आर्थिक साझीदारी का उल्लेख किया जिन पर इस महीने के आखिर में अमेरिकी राष्ट्रपति बराक ओबामा और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बीच होने वाली वार्ता में प्रमुख रूप से जोर दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि दोनों देश समुद्री सुरक्षा, पूरे क्षेत्र में उड़ान और नौवहन की स्वतंत्रता को सुरक्षित करने तथा आतंकवाद, समुद्री लूट और जनसंहारक हथियारों के प्रसार का मुकाबला करने में साझीदारी को मजबूत करने के लिए मिलकर काम कर रहे हैं। अमेरिकी विदेश मंत्री ने प्रमुख राजनीतिक और सुरक्षा संबंधी मुद्दों पर क्षेत्रीय सहयोग को प्रगाढ़ बनाने को लेकर अमेरिका की प्रतिबद्धता दोहराई।

केरी ने आगे कहा कि दोनों देश अमेरिका और भारत आतंकवाद के खिलाफ लड़ाई, पाइरेसी और व्यापक संहार वाले हथियारों के खिलाफ आपसी सहयोग को और मजबूत कर रहे हैं। उन्होंने यह भी कहा कि बराक ओबामा इस बात को लेकर काफी खुश हैं कि भारत दौरे पर दो बार आने वाले पहले अमेरिकी राष्ट्रपति होंगे। जिक्र योग्य है कि बराक ओबाम 26 जनवरी को रिपब्लिक डे परेड पर बतौर मुख्य अतिथि शामिल होंगे। ओबामा गणतंत्र दिवस के मौके पर मुख्य अतिथि के रूप में भारत आ रहे हैं। गणतंत्र दिवस समारोह में शामिल होने वाले वह पहले अमेरिकी राष्ट्रपति होंगे।

केरी ने कहा कि जलवायु परिवर्तन समझौता के मद्देनजर अमेरिका भारत के साथ काम करने को लेकर उत्सुक है। मैं जानता हूं कि ओबामा और मोदी की मुलाकात के दौरान बातचीत में यह भी एक मुद्दा रहेगा। केरी ने यह भी कहा कि वे वाइब्रेंट गुजरात समिट से काफी प्रभावित हैं। यहां जो मैंने देखा (ऊर्जा, उद्यमिता गतिविधि), उससे मैं काफी प्रभावित हूं। अमेरिकी विदेश मंत्री ने कहा कि गुजरात में क्षमताओं का विस्तार और निर्णय प्रकिया को तेज करके प्रधानमंत्री मोदी ने अपनी प्रतिष्ठा को बढ़ाया है।


Check Also

दिल्ली में 24 घंटे में कोरोना के 3944 नए मामले सामने आए, 82 मरीजों की हुई मौत

स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक दिल्ली में 24 घंटे में कोरोना के 3944 नए मामले सामने …

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *