Home >> Health Tips >> नाइट शिफ्ट करने वाली महिलाओं को दोगुना होता है ब्रेस्‍ट कैंसर का खतरा : शोध

नाइट शिफ्ट करने वाली महिलाओं को दोगुना होता है ब्रेस्‍ट कैंसर का खतरा : शोध


एक रिपोर्ट के अनुसार नाइट शिफ्ट करने वाली महिलाओं को जानलेवा बीमारी दे सकती है। यह शोध इंटरनेशनल एजेंसी फॉर रीसर्च ऑन कैंसर (IARC) के शोधकर्ताओं ने साल 2007 में किया था। 

 

जिसके अनुसार वैज्ञानिकों ने दावा किया था कि जो महिलाएं 30 साल से नाइट शिफ्ट कर रही हैं उन्‍हें ब्रेस्‍ट कैंसर होने का खतरा दोगुना होता है। शोधकर्ताओं का मानना था कि नाइट शिफ्ट के दौरान आर्टिफीशियल रोशनी यानी कि कृत्रिम प्रकाश शरीर में मौजूद रसायनों को नुकसान पहुंचाता है और यह प्रक्रिया ट्यूमर के विकास को गति देती है। 

 

अब इस शोध के नतीजों पर एक बार फिर यूनिवर्सिटी ऑफ ऑक्सफोर्ड के शोधकर्ताओं ने अध्ययन किया और पाया कि लंबी चलने वाली नाइट श‍िफ्ट में काम करने वाली महिलाओं में ब्रेस्ट कैंसर विकसित होने का खतरा नहीं है। ये रिपोर्ट नेशनल कैंसर इंस्टीट्यूट के जरनल में भी प्रकाश‍ित की गई है। 

आपको बता दे की इस विषय पर 10 बार अध्ययन किए गए, जिसमें 1.4 मिलियन महिलाओं को शामिल किया गया। जिसके अनुसार महिला चाहे पहली बार नाइट श‍िफ्ट में काम कर रही है या कुछ सप्ताह से या 20 या 30 वर्षों से, नाइट श‍िफ्ट की वजह से उसमें ब्रेस्ट कैंसर विकसित होने का खतरा नहीं होता।


Check Also

व्हीटग्रास जूस से डायबिटीज को करें कंट्रोल, डेंगू में प्लेटलेट्स बढ़ाने में मिलती है मदद

स्वास्थ्य के लिए प्रकृति में ऐसी कई फायदेमंद चीजें मौजूद हैं जिनके सेवन से आप …