Home >> Sports >> सहवाग का बड़ा खुलासा कहा- ‘विराट चाहते थे मै कोच बनूं’

सहवाग का बड़ा खुलासा कहा- ‘विराट चाहते थे मै कोच बनूं’


हाल ही में टीम इंडिया के धुरंधर बल्लेबाज ‘वीरेंद्र सहवाग ‘ ने अपने कोच बनने के मामले पर एक बड़ा बयान दिया है. सहवाग ने बताया कि, “टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली ने की मुझे कोच बनने के लिए एप्रोच किया था, बीसीसीआई को आवेदन भी कोहली के कहने पर दिया था. विराट कोहली चाहते थे कि मैं टीम इंडिया का कोच बनूं. किंतु हर जगह कप्तान की नहीं चलती.” सहवाग सोमवार को यूपी के मेरठ में एक समारोह में पहुंचे थे जहां उन्होंने एक क्रिकेट प्रतियोगिता के पुरुस्कार वितरण के दौरान बताया कि, कोच से लेकर प्लेयर और कमेंटेटर के चयन में कप्तान की भूमिका अवश्य होती है किंतु हर फैसला उसके हाथ में नहीं होता.

सहवाग ने बताया कि, “कप्तान का टीम से जुड़े विभिन्न फैसलों पर प्रभाव होता है लेकिन कई मामलों में अंतिम निर्णय उसका नहीं होता है.” आगे उन्होंने बताये कि, ” कोच और चयन में कप्तान की भूमिका हमेशा राय देने वाली रही है. विराट कोहली चाहते थे कि मैं भारतीय टीम का कोच बनूं. जब कोहली ने संपर्क किया तभी मैंने आवेदन किया, लेकिन मैं कोच नहीं बना. ऐसे में आप कैसे कह सकते हैं कि हर फैसले में कप्तान की चलती है. “

सहवाग के बारे में कहा गया था कि, उन्होंने केवल एक पंक्ति में कोच पद के लिये आवेदन कर दिया था लेकिन अपने करियर में 104 टेस्ट और 251 वनडे खेलने वाले इस विस्फोटक बल्लेबाज ने इससे इन्कार किया. इस बात पर सहवाग ने कहा कि, “मैंने सभी औपचारिकताएं की थी, एक लाइन वाली बात मीडिया के दिमाग की उपज थी.” सहवाग ने पाकिस्तान के साथ खेलने पर बताया कि, इस पड़ोसी देश के साथ क्रिकेट खेला जाना चाहिए लेकिन इसमें अंतिम फैसला सरकार का होगा. इस सम्बन्ध में सहवाग ने कहा कि, “यह सरकार को तय करना है. मेरी निजी राय है कि भारत को पाकिस्तान से क्रिकेट खेलना चाहिए.” मुरलीधरन के साथ खेलने पर होने वाली परेशानी पर सहवाग ने कहा कि, “मैंने कभी किसी गेंदबाज को खेलने के बारे में ज्यादा नहीं सोचा लेकिन मुरलीधरन को खेलने में थोड़ी मुश्किल हुई. उनके लिए अलग से रणनीति बनानी पड़ती थी. “

सहवाग ने खुद पर बायोपिक बनने के सवाल पर कहा कि, “जहां तक बायोपिक की बात है तो अभी तक किसी ने मुझसे संपर्क नहीं किया और मेरा ऐसा कोई इरादा भी नहीं है. हां, यह जरूरी है कि भारत में क्रिकेट के अलावा भी कई ऐसे खिलाड़ी हैं जिनका संघर्ष लोगों के सामने आना चाहिए. मेरा मानना है कि पहलवान सुशील कुमार की बायोपिक आनी चाहिए. उनके संघर्ष को मैंने करीब से देखा है.”


Check Also

श्रीलंका की टीम के चयन में एक खिलाड़ी के मैनेजर की वजह से नहीं खेल पाया ऑलराउंडर खिलाड़ी

एक बार वनडे विश्व और एक बार टी20 विश्व कप जीत चुकी श्रीलंका की टीम …