Home >> 2020 >> February >> 28

Daily Archives: February 28, 2020

अफगानिस्‍तान की महिलाओं को है अमेरिका-तालिबान के बीच समझौते से बड़ी चिंता

अफगानिस्‍तान की शांति को लेकर अमेरिका-तालिबान के बीच होने वाले समझौते पर भारत समेत कुछ दूसरे देशों की भी निगाहें लगी हुई हैं। इस समझौते को लेकर भारत की अपनी चिंताएं हैं। लेकिन इस समझौते को लेकर सबसे बड़ी चिंता अफगानिस्‍तान की महिलाओं को है। ऐसा इसलिए क्‍योंकि उन्‍होंने तालिबान के उस दौर को करीब से देखा है जो आज भी उनके मन में भविष्‍य को लेकर भय पैदा कर रहा है। 1996-2001 के बीच अफगानिस्‍तान में तालिबान की हुकूमत थी। तालिबानी हुकूमत तालिबान की हुकूमत में अफगानिस्‍तान का नाम इस्‍लामिक अमीरात ऑफ अफगानिस्‍तान था। 1990 में अफगानिस्‍तान से सोवियत संघ की सेनाओं की वापसी तक तालिबान एक बड़ा आतंकी संंगठन बन चुका था। सोवियत रूस के यहां से जाने के बाद वह लगातार अपने पांव यहां पर पसारता रहा। 1996 से पहले ही उसने करीब दो तिहाई से भी अधिक क्षेत्र पर कब्‍जा कर लिया था। इसके बाद काबुल भी उसकी पहुंच में आ गया।अ अफगानिस्‍तान की तालिबान सरकार को जिन दो देशों ने मान्‍यता दी थी उसमें केवल कतर और पाकिस्‍तान शामिल था। कतर में ही तालिबान का …

Read More »

पत्नी और बच्चो की हत्या कर खुद को लगाई फांसी, सुसाइड नोट हुआ बरामद

देश की राजधानी दिल्ली से लगे गाजियाबाद अर्थला इलाके में दिल दहला देने वाला मामला प्रकाश में आया है। इलाके के एक घर में पति-पत्नी और उनके दो बच्चों का शव संदिग्ध स्थिति में कमरे से बरामद हुआ है। मिली जानकारी के अनुसार, घर में कमरे में पति का शव फांसी से लटका हुआ पाया गया तो दूसरे कमरे में पत्नी और दो बच्चों का शव बिस्तर पर पड़ा हुआ मिला है। मामले की सूचना मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस मामले की तफ्तीश में जुट गई है। मौके पर जांच-पड़ताल करने के दौरान पुलिस को एक सुसाइड नोट बरामद हुआ है। इसमें आत्महत्या के कारणों को सिलसिलेवार ढंग से बताया गया है। शुरुआती जांच में पता चला है कि धीरज त्यागी ने पहले पत्नी काजल त्यागी व बच्चों एकता व ध्रुव को मारा फिर दूसरे कमरे में जाकर फांसी लगा ली। वहीं जान देने से पहले धीरज ने सुसाइड में लिखा है कि वह पत्नी काजल से बहुत प्यार करता है, किन्तु उसकी पत्नी काजल लड़कों से बात करती है और शराब भी पीती है। वहीं पुलिस ने …

Read More »

पंजाब में बजट पेश करने से पहले हुआ हंगामा, वित्तमंत्री के घर के बाहर हुआ प्रदर्शन

पंजाब में बजट पेश किए जाने से पहले शुक्रवार को भारी हंगामा हुआ। यहां अकाली दल के नेताओं ने वित्तमंत्री मनप्रीत सिंह बादल के निवास के बाहर प्रदर्शन किया। यहां हाई वॉल्टेज ड्रामा हुआ। भारी पुलिस बल और धक्का मुक्का के चलते वित्त मंत्री समय पर विधानसभा नहीं पहुंच पाए। इस कारण बजट भाषण समय पर शुरू नहीं हो सका और सदन की कार्रवाई 20 मिनट के लिए स्थगित करना पड़ी। अकाली दल के विधायक व पूर्व मंत्री Bikram Singh Majithia के नेतृत्व में अन्य विधायकों ने भारी हंगामा किया। अकाली दल के विधायक बिक्रम मजीठिया के सुरक्षाकर्मियों और पुलिस में झड़प और धक्का-मुक्की हुई। इसके बाद पहुंची पुलिस ने सभी को हिरासत में ले लिया। पुलिस मजीठिया को उठाकर ले गई। मजीठिया केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल के भाई हैं। मजीठिया के साथ मनप्रीत का आवास घेरने वालों में उन किसानों के परिजन भी शामिल थे जिन किसानों ने कर्ज के कारण आत्महत्या की है। ये विधायक किसानों के परिजन के लिए मुआवजे की मांग कर रहे थे। जानकारी के मुताबिक, पंजाब के वित्तमंत्री मनप्रीत सिंह बादल को बजट …

Read More »

रक्षा मंत्री राजनाथ स‍िंह ने कहा- जमीन, आसमान और समुद्र में हर समय दुश्‍मन को माकूल जवाब देंगे

 रक्षा मंत्री राजनाथ स‍िंह ने पाकिस्‍तान को एकबार फ‍िर परोक्ष रूप से नसीहत दी है कि वह अपनी धरती का इस्‍तेमाल आतंकी संगठनों को नहीं करने दे। उन्‍होंने (Defence Minister Rajnath Singh) शुक्रवार को कहा कि भारतीय वायुसेना की ओर से बालाकोट में की गई एयर स्‍ट्राइक से यह साफ संदेश गया है कि सीमा पार के बुनियादी ढांचों का इस्तेमाल आतंकियों के लिए सुरक्षित पनाहगाह के तौर पर नहीं किया जा सकेगा। वह ‘एयर पॉवर इन नो वॉर नो पीस सिनेरियो’ (Air Power in No War, No Peace Scenario) विषय पर आयोजित सेमीनार में बोल रहे थे। राजनाथ सिंह ने पुलवामा आतंकी हमले के शहीद सीआरपीएफ (CRPF) के 40 जवानों को श्रद्धांजलि दी और पाकिस्‍तान के  बालाकोट में एयर स्‍ट्राइक को अंजाम देने वाले जांबाज सैनिकों को सलामी दी। उन्‍होंने कहा कि हमको जो काम मिला है उसके लिए हमको तैयार रहना है। इसके लिए जरूरी है कि हम जमीन, आसमान और समुद्र में हर समय दुश्‍मन को माकूल जवाब देने की प्रतिरोधक क्षमता को कायम रखें। इस कार्यक्रम को चीफ ऑफ डिफेंस स्‍टाफ जनरल बिपिन रावत और भारतीय …

Read More »

इस महंगाई के दौर में भी 25 पैसे में कचौड़ी बेचता है युवक, जाने वजह

आज का समय महंगाई का है और आज हर चीज़ महंगी है लेकिन कुछ लोग हैं जो इस महंगाई भरे जमाने में भी खुद को बदल नहीं पाए हैं. जी हाँ, आज हम आपको एक ऐसे युवक से मिलवाने जा रहे हैं जो इस महंगाई के दौर में भी 25 पैसे में कचौड़ी बेचता है. हम जिनके विषय में बात कर रहे हैं उनका नाम लक्ष्मी नारायण घोष है. उनकी दुकान कोलकाता में है और वह सिर्फ़ 25 पैसे में कचौड़ी बेचते है. केवल इतना ही नहीं यह काम वो एक-दो दिन से नहीं, बल्कि पिछले 29 सालों से कर रहा है. जी हाँ, उन्होंने अपनी दुकान की शुरूआत 1990 में एक खाली पड़े कमरे से हुई थी. वहीं सामने आई एक खबर के अनुसार उस समय ज्योति बसु की सरकार सत्ता में थी और कचौड़ी की क़ीमत 50 पैसा हुआ करती थी. वहीं कोलकाता के मनिकलता के मुरारीपुकुर में स्थित इस दुकान के पास कई स्कूल हैं और लंच टाइम बहुत से बच्चे कचौड़ी खाने के लिये यहां जमा हो जाया करते थे. जी दरअसल इस दुकान की शुरुआत करने वाले …

Read More »

एजीआर डाटा के सुलह के लिए अभी डिटेल की है आवश्यकता, फिर बार फिर हो सकती है बैठक

डिजिटल संचार आयोग (DCC) द्वारा शुक्रवार को हुई बैठक का कोई हल नहीं निकला और इस महत्वपूर्ण बैठक में संकटग्रस्त दूरसंचार क्षेत्र को राहत देने के लिए कोई फैसला नहीं हो सका है। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार एजीआर डाटा के सुलह के लिए अभी और अधिक डिटेल की आवश्यकता है। सूत्रों ने बताया कि DCC की बैठक दो घंटे तक चली और आने वाले दिनों में एक बार फिर बैठक हो सकती है। दूरसंचार विभाग के अधिकारियों ने कहा कि बैठक में एजीआर मुद्दों पर बात न होकर भारत नेट परियोजना पर पीपीपी के लिए परियोजना कार्यान्वयन पर ध्यान केंद्रित किया गया है। जानकारी के मुताबिक, बैठक में दूरसंचार को राहत पर कोई निर्णय नहीं लिया जा सका है। सूत्रों ने कहा कि दूरसंचार विभाग को AGR डाटा के सुलह के लिए और अधिक डिटेल का इंतजार है। सुप्रीम कोर्ट में दूरसंचार कंपनियों के लिए राहत उपायों पर चर्चा करने के लिए टेलीकॉम पर सरकार का सर्वोच्च निर्णय लेने वाली संस्था डीसीसी ने शुक्रवार को बैठक की। DCC के सदस्यों में दूरसंचार विभाग के शीर्ष अधिकारियों के अलावा, …

Read More »

भारत और अमेरिका के रक्षा सौदों से पाकिस्‍तान की बढ़ा दी बेचैनी, रक्षा सौदे से धबड़ाया पाक

 ‘नमस्‍ते ट्रंप’ के बाद पाकिस्‍तान ने राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के बयान को अपने पक्ष में बताया था। पाकिस्‍तान की इमरान सरकार के मंत्रियों ने ट्रंप के बयान की अपने तरह से व्‍याख्‍या की थी। ट्रंप के यात्रा के दो दिन बाद पाकिस्‍तान अपने ही बयान से पलट गया है। भारत और अमेरिका के रक्षा सौदों से उसकी नींद उड़ गई है। इसने पाकिस्‍तान की बेचैनी को बढ़ा दी है। पाकिस्‍तान की सरकार जो ट्रंप के बयान पर अपनी पीठ थपथपा रही थी वह अचानक यूटर्न ले ली। आखिर उसकी चिंता की क्‍या है बड़ी वजह। रक्षा सौदे से पाकिस्‍तान क्‍यों धबड़ाया। आखिर क्‍या है AH-64E अपाचे और एमएच -60 रोमियो हेलिकॉप्टर। क्‍या है इसकी खूबियां। अमेरिका-भारत रक्षा सौदे से पाकिस्तान की बेचैनी बढ़ी भारत और अमेरिका के बीच हाल में हुए रक्षा सौदे ने पाकिस्तान की बेचैनी बढ़ा दी है। पाकिस्‍तान ने कहा इससे दोनों देशों के बीच हथियारों की होड़ बढ़ेगी। अमेरिका और भारत के बीच तीन अरब डाॅलर रक्षा सौदे पर पाकिस्तान विदेश मंत्रालय ने अपनी बड़ी चिंता जाहिर की है। ट्रंप की भारत यात्रा के दौरान दोनों देशों के बीच …

Read More »

निकाह के कार्ड के जरिए गंगा-जमुनी तहजीब को लाया गया सामने, भगवान गणेश और राधा-कृष्‍ण की तस्‍वीर…

मेरठ में एक मुस्‍लिम विवाह के लिए आमंत्रण पत्र में हिंदू भगवान की तस्‍वीर प्रिंट कराई गई है जो दोनों मजहब के लिए सौहाद्रता का बेमिसाल संदेश है। चर्चा का विषय बने इस निमंत्रण पत्र में भगवान गणेश और राधा-कृष्‍ण की तस्‍वीर है और साथ ही ‘चांद मुबारक’ भी प्रिंट कराया गया है। यह निकाह दो मुस्‍लिम परिवारों के बीच के रिश्‍ते को तो आपस में करीब ला ही रही दो समुदायों के बीच भी प्‍यार और मोहब्‍बत कायम करना चाहती है। इस कार्ड के जरिए गंगा-जमुनी तहजीब को सामने लाया गया है। इसपर एक ओर जहां भगवान गणेश और राधा-कृष्‍ण की तस्‍वीर है वहीं चांद सितारे भी मौजूद हैं। इनकी है ये नेक पहल  हस्‍तिनापुर के मोहम्‍मद शराफत ने अपनी बेटी आस्‍मां खातून की निकाह के लिए यह विशेष कार्ड बनवाया है। यह निकाह 4 मार्च को है। मोहम्‍मद शराफत ने कहा, ‘जब सांप्रदायिक नफरत फैल रहा है ऐसे में मुझे लगा कि हिंदू-मुस्‍लिम के बीच प्रेम और सौहाद्रता को दिखाने के लिए यह अच्‍छा आइडिया होगा। मेरे दोस्‍तों ने भी इसपर काफी सकारात्‍मक प्रतिक्रिया दी।’ हालांकि उन्‍होंने अपने …

Read More »

ओलंपिक क्वालिफिकेशन से पहले एक अंतिम बड़ा टूर्नामें, इस टूर्नामेंट में कई स्टार खिलाड़ी आएंगे नजर

इंडिया ओपन बैडमिंटन के 10वें संस्करण में महिला एकल इवेंट में विश्व की टॉप-10 में से आठ और पुरुष एकल इवेंट में विश्व के टॉप-10 में से तीन खिलाड़ी भाग लेंगे. 26 अप्रैल को खत्म होने वाले ओलंपिक क्वालिफिकेशन से पहले यह एक अंतिम बड़ा टूर्नामेंट है. पीवी सिंधु, साइना नेहवाल, साई प्रणीत और किदांबी श्रीकांत इस टूर्नामेंट में भारतीय चुनौती की अगुवाई करेंगे. वर्ल्ड नंबर-1 चीन की चेन यूफेई और पुरुष एकल वर्ग में मौजूदा चैंपियन विक्टर एक्सेलसन 24 से 29 मार्च तक इंदिरा गांधी अंतर्राष्ट्रीय स्टेडियम में शुरू होने वाले इंडिया ओपन बैडमिंटन टूर्नामेंट के 10वें संस्करण में ड्रॉ की अगुवाई करेंगे.ओलेंपिक क्वालिफिकेशन 26 अप्रैल को समाप्त होगा और उससे पहले 4 लाख अमेरिकी डॉलर की इनामी राशि वाले इस टूर्नामेंट में कई स्टार खिलाड़ी राजधानी में नजर आएंगे. मलेशिया मास्टर्स खिताबी जीत से सीजन की शुरुआत करने वाली यूफेई महिला एकल इवेंट में विश्व की टॉप-10 में आठ खिलाड़ियों की अगुवाई करेंगी. इनमें अकाने यामागुची, ही बिंगजियाओ, कैरोलिना मारिन, एन से योंग, मिशेले ली, तीन बार की चैंपियन रत्नाचोक इंतानोन और विश्व चैंपियन भारत की पीवी सिंधु …

Read More »

सबसे बड़े वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टाइन एमी नोट को मानते थे जीनियस, जाने कौन थी ये महिला

सदी के सबसे बड़े वैज्ञानिक माने जाने वाले अल्बर्ट आइंस्टाइन ने उनके बारे में कहा था, ‘महिलाओं को जब से उच्च शिक्षा की इजाजत मिली है, उस समय से अब तक गणित के क्षेत्र में सबसे महत्वपूर्ण जीनियस एमी नोटर थीं।’ लेकिन एमी नोटर आखिर थीं कौन? जर्मनी में 1882 में जन्मी एमी के पिता मैक्स नोटर गणितज्ञ थे और बैवेरिया के एरलानजन विश्वविद्यालय में पढ़ाते थे। जब उन्होंने कॉलेज में नाम लिखाना चाहा, उन्हें खारिज कर दिया गया। उस समय महिलाओं को उच्च शिक्षा की इजाजत नहीं थी। बाद में उनसे कहा गया कि यदि शिक्षक उन्हें अनुमति दें तो वे कक्षा में यूं ही बैठ सकती हैं। खैर, उन्होंने पढ़ाई पूरी की, लेकिन जब विश्वविद्यालय में पढ़ाने लगीं तो शुरू में उन्हें वेतन नहीं दिया जाता था। इस महिला के बारे में कहा जाता है कि उन्होंने आधुनिक अल्जेब्रा की नींव डाली। उन्होंने क्वांटम थ्योरी की नींव डाली। उनके सिद्धांतों को समझे बगैर आइंस्टाइन के सापेक्षतवाद के सिद्धांत को नहीं समझा जा सकता है। खुद आइंस्टाइन का मानना था कि उनके कठिन समझे जाने वाले सापक्षेतावाद के सिद्धांत …

Read More »