Wednesday , 19 June 2019
खास खबर
Home >> My View

My View

यहाँ जानिए आज का पंचांग, राहुकाल और शुभ मुहूर्त

आजकल लोग पंचांग देखकर अपने दिन की शुरुआत करते हैं. ऐसे में पंचांग से शुभ अशुभ समय का ज्ञान होता है और प्रतिदिन प्रातःकाल पंचांग पढ़ना चाहिए. यह सूर्य तथा चंद्रमा की गति की बताता है और कहा जाता है मुहूर्त का अपना विशेष महत्व है. इसी के साथ प्रत्येक कार्य शुभ मुहूर्त में ही करना चाहिए. कहते हैं अभिजीत मुहूर्त किसी भी कार्य को आरम्भ करने के लिए बहुत से श्रेयष्कर है. वहीं राहुकाल में कोई भी कार्य नही शुरू करें. कहते हैं चंद्रमा जिस राशि में स्थित हो उसका भी अपना एक महत्व है. उस ग्रह के बीज मंत्र का जप उस दिन अवश्य करना चाहिए. आज का पंचांग- माह-ज्येष्ठ पक्ष-कृष्ण वार-गुरुवार तिथि- पंचमी नक्षत्र-  उत्तराषाढा करण- कौलव सूर्य राशि-वृष, स्वामीग्रह-शुक्र चंद्र राशि-  धनु राशि ,स्वामीग्रह-गुरु सूर्योदय-05:30 am सूर्यास्त;07:05 pm शुभ मुहुर्त- अभिजीत मुहूर्त 11:50 am से 12:45 pm अशुभ मुहुर्त- राहुकाल-दोपहर 01:30 बजे से 03 बजे तक Read More »

कुमकुम से होते ऐसे-ऐसे लाभ कि सुनकर चौंक जाएंगे आप

कहते हैं हिंदू धर्म में पूजा पाठ आदि धार्मिक कार्यों में कुमकुम का इस्तेमाल होता हैं और कुमकुम को बहुत ही शुभ और पवित्र भी मानते हैं. इसी के साथ आप जानते होंगे कि यह केवल पूजा में ही नहीं बल्कि अन्य मांगलिक कार्यों में भी इस्तेमाल किया जाता हैं. इसी के साथ शक्ति की साधना में कुमकुम का विशेष प्रयोग किया जाता हैं और पूजा की थाली में खास तौर पर रखा जाने वाले कुमकुम का न केवल धार्मिक बल्कि वैज्ञानिक महत्व भी हैं. अब आइए आज हम आपको बताते हैं कुमकुम के कुछ महत्वपूर्ण उपायों के बारे में.     * कहते हैं पूजा में प्रयोग किए जाने वाले कुमकुम को एक तरह की औषधि भी माना जाता हैं जिसका इस्तेमाल आयुर्वेद में त्वचा संबंधी विकारों को दूर करने के लिए होता हैं. इसी के साथ माथे पर लगाए जाने वाले कुमकुम के प्रयोग से न केवल सौंदर्य निखरता हैं बल्कि इसमें मन की एकाग्रता भी बढ़ जाती हैं.   * आप सभी जानते ही हैं कि महिलाए अपने सोलह श्रृंगार में भी इसे शामिल करती हैं और ... Read More »

हींग के यह सरल टोटके उतार सकते हैं आपका कर्ज

कहते हैं वास्तुशास्त्र कई प्रकार से लाभदायक होता है. ऐसे में वास्तु के अनुसार रसोई में प्रयोग होने वाली ऐसी कई वस्तुएं है जिनके आसान से उपाय को कर हम अपनी किस्मत को चमका सकते हैं. जी हाँ , आज हम आपको उन्ही के बारे में बताने जा रहे हैं जिनके बारे में सुनकर आपको हैरानी भी होगी और आप खुश भी हो जाएंगे क्योंकि यह बहुत सरल टोटके हैं .      1. कहा जाता है अगर कोई भी अपने जीवन में कर्ज से परेशान है और कर्ज से मुक्ति पाना चाहते हैं तो उसके लिए इस सरल टोटके को अपनाए जिससे आपतो लाभ मिलगे। इसके लिए हींग के पानी से स्नान करें जिससे धीरे धीरे कर्ज से छुटकारा मिलता है। 2. कहते हैं अगर घर को किसी की बुरी नजर लग गई है तो उसे उतरने के लिये 5 ग्राम हींग, 5 ग्राम कपूर व 5 ग्राम काली मिर्च को मिलाकर पाउडर बना कर इन की छोटी छोटी गोलियां बनाकर सुबह और शाम दोनों समय घर में तीन दिनों तक जलाएं इससे घर को लगी बुरी नजर उतर ... Read More »

कंघी करते हुए अगर आपके हाथ से छूट जाए कंघा तो समझ जाइए यह संकेत…

हम सभी इस बात से वाकिफ हैं कि हर महिला की सुंदरता उसके बालों से होती हैं और उसके बाल ही उसकी सुंदरता को दिखाते हैं. ऐसे में काले और घने, लम्बे बाल म​हिला की सुंदरता में चार चांद लगाने का काम करते हैं. इसी के साथ महिलाएं अपने बालों का ख्याल भी बहुत अच्छी तरह से रखती हैं वह अपनी जान से ज्यादा अपने बालो की देख-रेख करती हैं. ऐसे में महिलाओं के बाल केवल सुंदरता की ही निशानी नहीं बल्कि इनसे कई तरह की मान्यताएं भी जुड़ी होती हैं जो आज हम आपको बताने जा रहे हैं. आइए जानते हैं.      1. ऐसी मान्यता हैं, कि मासिक धर्म के पहले दिन बाल नहीं धोने चाहिए क्योंकि ऐसा करना अशुभ हो सकता है. इसी के साथ इससे महिलाओं की तकलीफ अधिक बढ़ सकती हैं और नकारात्मक शक्ति भी उन पर हावी हो सकती हैं. कहते हैं वैज्ञानिकों के अनुसार इन दिनों बाल धोने से महिला को ठंड लग सकती हैं, जिससे गर्भधारण करने में भी परेशानी हो सकती हैं.   2. कहते हैं अगर बाल बनाते समय कंघी ... Read More »

बच्चों ने पीठ पर बैठ‍ाकर बुजुर्गों से डलवाए वोट, 3 KM चलना पड़ा पैदल

लोकसभा चुनाव 2019 का पहला चरण समाप्त हो गया है. चुनाव में ऐसे भी रंग देखने को म‍िले जो एक नई अनुभूत‍ि लाते हुए प्रतीत हो रहे हैं. बुजुर्गों को वोट डालने में कोई परेशानी न आए, इसके ल‍िए कुछ बच्चों ने अनोखा कदम उठाया. वे बुजुर्गों को अपनी पीठ पर उठाकर मतदान करवाने ले गए. द‍िल को छूने वाला ये नजारा उत्तराखंड के ट‍ि‍हरी गढ़वाल ज‍िले के एक गांव में देखने को म‍िला. उत्तराखंड के टेहरी गढ़वाल ज‍िले में घन्साली तहसील है. उसी में एक छोटा सा गांव है बजिन्गा. यहां कुछ बच्चों ने अनोखी पहल की. बच्चों ने बुजुर्गों को कंधे पर उठाया और पोल‍िंग बूथ तक लेकर गए. इस गांव के ऐसे कम से कम 7 बुजुर्गों को इस तरह बूथ तक पहुंचाया गया. बुजुर्गों को पीठ पर बैठाकर पोल‍िंग बूथ पहुंचाया इस सराहनीय पहल से जुड़े दीपक मैठाणी ने बताया, ‘हम चाहते थे क‍ि हमारे गांव का हर व्यक्त‍ि वोट डाले. इसके ल‍िए हमने गांव के सभी लोगों को जागरूक भी क‍िया. इसी दौरान कुछ बुजुर्गों ने वोट देने की इच्छा जताई लेक‍िन वे बूथ तक ... Read More »

स्‍वामी विवेकानंद की जयंती पर पढ़ें उनके वे 8 विचार, जो जीवन को बना देंगे सफल

आज स्वामी विवेकानंद की 156वीं जयंती है. उनका जन्‍म 1863 में आज ही के दिन कोलकाता में हुआ था. उनके विचार आज भी प्रासांगिक बने हुए हैं. स्वामी जी के विचार किसी भी व्यक्ति की निराशा को दूर कर सकते हैं. उसमें आशा भर सकते हैं. प्रस्तुत हैं स्वामी जी के कुछ ऐसे ही विचार… 1. उठो और जागो और तब तक रुको नहीं जब तक कि तुम अपना लक्ष्य प्राप्त नहीं कर लेते. 2. आप जो भी सोचेंगे. आप वही हो जाएंगे. अगर आप खुद को कमजोर सोचेंगे तो आप कमजोर बन जाएंगे. अगर आप सोचेंगे की आप शक्तिशाली हैं तो आप शाक्तिशाली बन जाएंगे.  3. एक विचार चुनिए और उस विचार को अपना जीवन बना लिजिए. उस विचार के बारे में सोचें उस विचार के सपने देखें. अपने दिमाग, अपने शरीर के हर अंग को उस विचार से भर लें बाकी सारे विचार छोड़ दें. यही सफलता का रास्ता हैं. 4. एक नायक की तरह जिएं. हमेशा कहें मुझे कोई डर नहीं, सबको यही कहें कोई डर नहीं रखो. 6. अगर आप पौराणिक देवताओं में यकीन करते हैं और खुद ... Read More »

हालिया घटनाओं से अगर हमने अब भी सबक नहीं लिया तो भयावह हो सकते हैं नतीजे

इसमें तो संदेह नहीं है कि सैकड़ों साल पहले आग का इंसान के हाथ लगना उसकी जिंदगी को क्रांतिकारी ढंग से बदलने वाला करिश्मा था। उस वक्त जंगलों में रहने वाला इंसान आग पर नियंत्रण के साथ ऐसी ताकत पा गया, जिससे वह न सिर्फ अन्य जंगली जीवों से अपनी रक्षा कर सकता था, बल्कि उन पर प्रभुत्व बनाते हुए भूख से लड़कर जीने का एक नया आधार पा सकता था, लेकिन कथित विकास के नाम पर असली जंगलों से शहरों के कंक्रीट के जंगलों में पहुंची मानव सभ्यता के लिए आज वही आग उसकी ताकत के उलट कमजोरी साबित हो रही है। मुंबई के मरोल (अंधेरी पूर्व) इलाके में ईएसआइसी कामगार अस्पताल में बीते दिनों लगी आग और इस हादसे में हुई सात मौतों ने साबित किया है कि चंद लापरवाहियों के चलते हम आग के आगे आज कितने लाचार बन गए हैं। आग से सुरक्षा के जितने उपाय जरूरी हैं, तेज शहरीकरण की आंधी और अनियोजित विकास ने उन उपायों को हाशिये पर धकेल दिया है। विडंबना यह है कि जो कथित विकास हमारे देश में हो रहा ... Read More »

पैसा खर्च करने के बाद भी उभोक्ताओं को नहीं मिल रहा है बेहतर नेटवर्क

अब हम देश के 65 करोड़ मोबाइल उपभोक्ताओं के साथ हो रहे धोखे का विश्लेषण करेंगे . हमारे देश की टेलिकॉम कंपनियां बेहतर नेटवर्क के नाम पर करोड़ों ग्राहकों को ठग रही हैं . सवा पांच लाख करोड़ रुपये के साथ भारत, दुनिया का सबसे तेज़ी से बढ़ता हुआ टेलिकॉम बाज़ार है . यानी देश की टेलिकॉम कंपनियां मुनाफे के ऊंचे ऊंचे टावर पर बैठी हैं लेकिन ग्राहकों को देने के लिए इनके पास बेहतर नेटवर्क नहीं है . आपने अक्सर मोबाइल फोन पर बात करते हुए अचानक फोन कट जाने या फोन न मिलने वाली समस्या का सामना किया होगा . टेलिकॉम की भाषा में इसे Call Drop और Call Connect वाली समस्या कहते है .  एक सर्वे के मुताबिक देश के करीब 90% मोबाइल उपभोक्ता Call Drop और Call Connect वाली समस्या से परेशान हैं .  देश के 72% लोगों का मानना है कि कमज़ोर मोबाइल नेटवर्क की वजह से Call Drop की समस्या आती है . यानी उनके फोन बीच में ही कट जाते हैं.  Call Drop की समस्या से परेशान होकर करीब 30 प्रतिशत लोग इंटरनेट ... Read More »

आतंकियों से लोहा ले रहे सुरक्षा बलों पर पत्थरबाजी करना आतंकवाद को खुला समर्थन है

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में आतंकियों से मुठभेड़ के दौरान तीन आतंकियों के साथ जो अन्य लोग मारे गए उन्हें आम नागरिक के रूप में परिभाषित करना मुश्किल है। ये तो वे पत्थरबाज थे जो आतंकियों को बचाने के लिए सुरक्षा बलों पर पथराव करने के साथ ही उनके सुरक्षा घेरे को तोड़ने की कोशिश कर रहे थे। केवल इतना ही नहीं, वे आतंकियों से लोहा ले रहे जवानों के हथियार छीनने का भी दुस्साहस कर रहे थे। यह सही है कि सुरक्षा बलों से विषम परिस्थितियों में भी संयम बरतने की अपेक्षा की जाती है, लेकिन आखिर संयम की भी एक सीमा होती है। यह किसी से छिपा नहीं कि पत्थरबाज कई बार घायल जवानों को अस्पताल ले जाने का रास्ता तक नहीं देते। गत दिवस ही यदि आतंकियों को मार गिराने की कोशिश में घायल जवान समय पर अस्पताल पहुंच जाता तो शायद उसकी जान बच जाती। सुरक्षा बलों को संयम की सीख देने वालों को इससे परिचित होना चाहिए कि पुलवामा में पत्थरबाजों पर गोली इसलिए चलानी पड़ी, क्योंकि लाठीचार्ज, आंसू गैस और पैलेट गन के इस्तेमाल के ... Read More »

बोन मैरो कैंसर अब नहीं रहेगा लाइलाज, दिखी उम्मीद की नई किरण

 गंभीर बोन मैरो कैंसर के इलाज की दिशा में उम्मीद की नई किरण दिखी है। ब्रिटेन की न्यूकैसल यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने क्लीनिकल ट्रायल में एक दवा को मायलोमा के मरीजों पर प्रभावी पाया है। इस कैंसर से जूझ रहे मरीजों को लेनालिडोमाइड दवा दी गई। लैंसेट ओंकोलॉजी जर्नल में प्रकाशित नतीजों के मुताबिक, जिन मरीजों को यह दवा दी गई, उनमें अन्य के मुकाबले ज्यादा सुधार देखा गया। मायलोमा प्लाज्मा कोशिकाओं का कैंसर है जो रीढ़, सिर, पेल्विस और पसलियों में होता है। यह गंभीर किस्म का कैंसर है। इसके इलाज में प्राय: कीमोथेरेपी और स्टेम-सेल प्रत्यारोपण की पद्धति अपनाई जाती है। प्रोफेसर ग्राहम जैकसन ने कहा, ‘हमारे शोध से यह सामने आया है कि ऐसे मरीज जिनमें हाल ही में इस कैंसर की पहचान हुई हो, उन्हें स्टेम- सेल प्रत्यारोपण से पहले यह दवा देनी चाहिए।’ यह दवा इलाज की प्रक्रिया के दौरान मरीजों की सेहत को बेहतर रखने में मददगार है। बोन मैरो यानि अस्थि मज्जा मुख्य हड्डियों के बीच में एक मुलायम व स्पॉंजी टिशू है। इसमें रक्त बनाने वाली अपरिपक्व कोशिकाएं होती हैं जिन्हें स्टेम सेल्स ... Read More »

Study Mass Comm