Home >> मुद्दा यह है कि

मुद्दा यह है कि

राज्यसभा चुनाव से पहले मायावती को लगा जोरदार झटका, पांच विधायकों ने वापस लिया प्रस्ताव

यूपी राज्यसभा चुनाव से पहले बसपा को जोरदार झटका लगा है। बसपा के प्रत्यशी रामजी गौतम के 10 प्रस्तावकों में से 5 प्रस्तावकों ने अपना प्रस्ताव वापस लिया। इनमें असलम चौधरी ,असलम राईनी, मुज्तबा सिद्दीकी ,हाकम लाल बिंद ,गोविंद जाटव शामिल हैं। कल ही असलम चौधरी की पत्नी ने समाजवादी पार्टी की सदस्यता ली थी। यूपी में दस राज्यसभा सीटों पर चुनाव होना है, जिसके लिए कुल 11 प्रत्याशी मैदान में हैं। भाजपा की ओर से आठ, समाजवादी पार्टी के एक, बहुजन समाज पार्टी के एक और एक निर्दलीय उम्मीदवार चुनावी मैदान में हैं। राज्यसभा चुनाव की जंग सपा ने बिछाए बसपा की राह में कांटे इससे पहले ऐन मौके पर सपा समर्थित निर्दलीय प्रत्याशी के मैदान में आ जाने से अब राज्यसभा चुनाव की जंग रोचक हो गई थी। अगर सबके पर्चे सही पाए गए तो  11 प्रत्याशियों में से 10 को चुनने के लिए मतदान होगा। विधायकगण वोट डालेंगे। सपा की इस चाल से चुनाव की नौबत आ गई है। इससे बसपा का खेल मुश्किल हो गया है। इससे बड़ी बात यह कि  विधायकों में क्रासवोटिंग के आसार भी अब बनेंगे। भाजपा इस स्थिति …

Read More »

संजय राउत बोले- CBI छोटे-छोटे मामलों में भी घुसने लगी, कहीं केस होता और कहीं जांच करने आ जाती एजेंसी

महाराष्ट्र की उद्धव ठाकरे सरकार ने राज्य मामलों की जांच के लिए केन्द्रीय जांच एजेंसी सीबीआई को दी गई आम सहमति को वापस ले लिया है। यानी, अब महाराष्ट्र में किसी भी केस की जांच के लिए सीबीआई पहले वहां की सरकार से इजाजत लेनी होगी। इस मामले में शिवसेना प्रवक्ता और राज्यसभा सांसद संजय राउत ने इस फैसले को सही ठहराया है। संजय राउत ने कहा, ‘CBI छोटे-छोटे मामलों में भी घुसने लगी। सीबीआई का अपना एक वजूद है। महाराष्ट्र जैसे राज्य में अगर कोई राष्ट्रीय कारण हैं तो उन्हें जांच करने का अधिकार है।’ उन्होंने कहा कि मुंबई या महाराष्ट्र पुलिस ने किसी विषय पर जांच शुरू की, किसी और राज्य में FIR दाखिल की जाती है। वहां से केस CBI को जाता है और CBI महाराष्ट्र में आ जाती है। अब ये नहीं चलेगा, महाराष्ट्र और मुंबई पुलिस का अपना एक अधिकार है, जो संविधान ने दिया है। आपको बता दें कि सीबीआई ने उत्तर प्रदेश पुलिस द्वारा मामला दर्ज किए जाने के आधार पर मंगलवार को एफआईआर दर्ज की थी। एक विज्ञापन कंपनी के प्रमोटर की …

Read More »

घोषणा पत्र: RJD के 10 लाख के जवाब में BJP ने किया बिहार के 19 लाख युवाओं को रोजगार देने का वादा

  बिहार विधानसभा चुनाव को लेकर आज भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने अपना घोषणा पत्र (Manifesto) जारी कर दिया है। केन्द्रीय मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज पटना में भाजपा के ‘5 सूत्र, एक लक्ष्य, 11 संकल्प’ के विजन डाक्‍यूमेंट को जारी किया। घोषणा पत्र में जनता से कई वायदे किए गए हैं। आरजेडी की तरह बीजेपी ने भी बिहार के युवाओं को रोजगार देने का वादा किया है। बीजेपी ने कहा आरजेडी के 10 लाख नौकरी देने के वादे के जवाब में 19 लाख युवाओं को रोजगार देने का वादा किया है। आपको बता दें कि नेता प्रतिपक्ष तेजस्वी यादव लगातार अपने इस वादे का रैलियों में जिक्र करते हैं। साथ ही वह भी करते हैं कि कैबिनेट की पहली बैठक में वह इसपर फैसला लेंगे। आरजेडी के 10 लाख लोगों को नौकरी देने के वादे पर बीजेपी और जेडीयू के नेता लगातार हमला करते आ रहे हैं। बीजेपी ने अपने घोषणा पत्र में कहा है, ‘एक हजार नए किसान उत्पाद संघों को आपस में जोड़कर राज्यभर के विशेष सफल उत्पाद, (जैसे- मक्का, फल, सब्जी, चूड़ा, मखाना, पान, मशाला, शहद, …

Read More »

इस युवती ने बांकेबिहारी मंदिर के सामने जमकर किया हंगामा, देखने के लिए उमड़ी भीड़

मथुरा जिले के मगोर्रा क्षेत्र से मंगलवार शाम को वृंदावन आई एक युवती ने बांकेबिहारी मंदिर के बाहर जमकर हंगामा किया। वह बिहारी जी के दर्शन को अड़ गई। मंदिर के सुरक्षाकर्मियों ने उसे समझाया, लेकिन वह मंदिर के चबूतरे के सामने से हटने को तैयार नहीं हुई। बोली, मुझे बिहारीजी जी ने बुलाया है, दर्शन करके ही जाएगी। वहां मौजूद उसके पिता ने किसी तरह उसे समझाया। इसके बाद उसे घर ले गए।   मंगलवार को देर शाम मगोर्रा कस्बा से पिता के साथ आई युवती बांकेबिहारी के दर्शन की जिद करने लगी। मंदिर के सुरक्षाकर्मियों ने उसे बहुत समझाया लेकिन वह दर्शन की जिद पर अड़ गई। उसने कहा कि मुझे पता है मंदिर बंद है, लेकिन मुझे तो ठाकुर जी ने बुलाया है। युवती ने कहा कि वह कोई सामान्य भक्त नहीं है, बगैर दर्शन के नहीं जाएगी। युवती का हंगामा देखकर मंदिर के बाहर भीड़ जुट गई। सुरक्षाकर्मियों ने युवती को बमुश्किल से चबूतरे के सामने सड़क से हटाया। युवती के पिता साहब सिंह ने बताया कि उनकी बेटी बचपन से ही बिहारी जी की भक्ति …

Read More »

लोहरदगा में पीएलएफआइ उग्रवादी संगठन के पांच नक्सलियों को पुलिस ने किया गिरफ्तार

लोहरदगा में पीएलएफआइ उग्रवादी संगठन के पांच नक्सलियों को पुलिस ने सोमवार को गिरफ्तार किया है। नक्सलियों की गिरफ्तारी लोहरदगा जिले के सेन्हा थाना क्षेत्र के तोड़ार आम बगीचा के समीप 12 जून की रात फुलझर नहर निर्माण योजना में लेवी के खातिर उत्पात मचाने के मामले में हुई है। इसकी पुष्टि एसपी प्रियंका मीणा ने की है। उन्होंने बताया कि उपरोक्त घटना के बाद मामला पुलिस के संज्ञान में आने पर त्वरित कार्रवाई में पीएलएफआइ के पांच नक्सली पकड़े गए। इसके बाद सभी से पुलिस कड़ाई से पूछताछ कर रही है। एसपी ने कहा है कि फिलहाल पूछताछ चल रही है। जैसे ही इन लोगों से पूछताछ पूरी होगी, पुलिस आगे की कार्रवाई करेगी। पुलिस गिरफ्त में आए पांचों नक्सलियों का संबंध पीएलएफआइ नक्सली संगठन से है। इसमें 3 के पास से घटना में शामिल होने की पुलिस को पुख्ता जानकारी भी मिल चुकी है। दो अन्य लोगों से उनकी संलिप्तता को लेकर पुलिस पूछताछ कर रही है। बहरहाल विगत 12 जून की रात नक्सलियों ने लेवी के लिए फुलझर नहर निर्माण योजना स्थल पर पहुंचकर 11 करोड़ 16 …

Read More »

CM योगी ने कनिका कपूर के खिलाफ उठाया सख्त कदम…

बॉलीवुड की गायिका कनिका कपूर के कोरोना वायरस संक्रमित होने के बाद अब उनकेे खिलाफ एफआईआर दर्ज हो गई है।सीएमओ आईपीसी की धारा आईपीसी 188 (महामारी कानून) 269 (ऐसा काम जिससे संक्रामक रोग फैलने की आशंका हो) और 270 (जीवन के लिए संकटपूर्ण रोग का फैलाना) तहत लखनऊ के सरोजिनी नगर थाने में कनिका पर केस दर्ज हुआ है। कनिका को लखनऊ के केजीएमयू के आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। सिंगर ने शुक्रवार को सोशल मीडिया के जरिए जानकारी दी थी। कनिका ने बताया कि आखिरी चार दिनों के बीच में उन्हें फ्लू के लक्षण समझ आए और जब उन्होंने इसकी जांच करवाई तो कोविड 19 पॉजिटिव पाई गईं। वो 15 मार्च को लंदन से वापस भारत लौटी थीं। कनिका तीन-चार पार्टी में भी शामिल हुई थीं। डॉक्टर्स पर लगाए आरोप अस्पताल पहुंचते ही कनिका ने डॉक्टर्स पर आरोप लगाना शुरू कर दिया। एक निजी न्यूज चैनल से बातचीत में कनिका ने कहा था कि उन्हें एक अकेले कमरे में रखा गया है जहां खाने-पीने को कुछ नहीं है। डॉक्टर्स उनकी मदद करने की बजाए उन्हें डांट लगा रहे हैं …

Read More »

मासूम बच्चे बीमारी नहीं बल्कि दवा के नाम पर दिए जहर की वजह से गए मौत के मुंह में

 दवा ही जहर बन जाए तो सोचना पड़ता है कि इस जहर से मरा क्या- क्या है। जम्मू-कश्मीर के 12 मासूम बच्चे इसलिए मौत के मुंह में नहीं चले गए कि वे बीमार थे। इसलिए, क्योंकि उन्हें दवा में मीठा जहर दिया गया। दवा बनाने वाली कंपनी हिमाचल प्रदेश से है। सिरमौर के कालाअंब में यह दवा बनती थी। विज्ञान से जुड़े साहित्य खासतौर पर गद्य में मीठे जहर का जिक्र आता है। किसी को चुपचाप मारने का यह माध्यम होता है। उस मीठे जहर को डाई एथेलीन ग्लाइकोल कहा जाता है। कालाअंब की कंपनी डिजिटल इंडिया की पीने वाली दवा कोल्डबेस्ट में यही डाला गया था। बेशक, इसमें प्रोपेलीन ग्लाइकोल का इस्तेमाल होना था। प्रोपेलीन की खूबी यह है कि इसे आमतौर पर खाने में सुरक्षित समझा जाता है। इसका काम है दवा का अतिरिक्त पानी सोख लेना, लेकिन दवा में नमी बरकरार रखना। लेकिन जहर ही सही, मीठा था, इसलिए उचित कच्चा माल मिला या नहीं, यह सोचने का वक्त किसी के पास नहीं था। ऑर्डर आया होगा कि इतना माल चाहिए और दवा की जगह जहर बना …

Read More »

इंजीनियरिंग की डिग्री धारकों ने पार्किंग अटेंडेंट की जॉब के लिए किया अप्लाई , 10वीं पास करने वाले को …

देश में बेरोजगारी की स्थिति क्या है। इस बात का अंदाजा इससे ही लगाया जा सकता है कि चेन्नई में इंजीनियरिंग की डिग्री धारकों ने पार्किंग अटेंडेंट की जॉब के लिए अप्लाई किया है। ये पढ़कर भले आपको यकीन नहीं हो रहा हो। लेकिन हकीकत तो यही है। यहां के 1400 हाईली क्वालिफाईड इंजीनियर युवा ने पार्किंग अटेंडेंट की जॉब के लिए आवेदन दिया है, जबकि इस पोस्ट के लिए शैक्षिक योगग्‍यता SSLC (सेकेंडरी स्‍कूल लीविंग सर्टिफिकेट ) मांगी गई थी। SSLC सर्टिफिकेट 10वीं पास करने पर मिलता है। द हिन्दू की रिपोर्ट के मुताबिक, चेन्‍नई में 1400 उम्‍मीदवारों ने पार्किंग अटेंडेंट की जॉब के लिए आवेदन किया था। इन उम्‍मीदवारों में 70 फीसदी से ज्‍यादा लोग ऐसे थे, जिन्‍होंने ग्रेजुएशन किया है और 50 फीसदी से ज्‍यादा के पास इजीनियरिंग की डिग्री है। इस बारे में एक उम्‍मीदवार ने अखबार से बात करते हुए कहा, मैंने सिविल इंजीनियरिंग की है। लेकिन रियल एस्‍टेट इंडस्‍ट्री की खराब हालत होने की वजह से मेरे पास नौकरी नहीं है। वहीं इस बारे में पार्किंग मैनजमेंट सिस्टम के मैनेजर ने बताया कि इस पोस्ट के …

Read More »

किसी गैर गांधी को पार्टी की कमान सौंपने से क्या, कांग्रेस पार्टी संकट से बाहर निकाल सकती है?

दिल्ली की पूर्व मुख्यमंत्री स्वर्गीय शीला दीक्षित के बेटे संदीप दीक्षित ने कांग्रेस को संकट से बाहर निकालने के लिए किसी गैर गांधी को पार्टी की कमान सौंपने की मांग की है। लेकिन सवाल उठता है कि क्या इस बात की कोई संभावना है? मान लीजिए, ऐसा हो भी जाता है तो कांग्रेस के इतिहास को देखते हुए क्या इस बात की संभावना नहीं है कि घूम-फिर कर कमान गांधी परिवार के पास ही वापस आएगी? कुछ बोल रहे हैं, कुछ चुप वरिष्ठ पत्रकार और जनसत्ता मुंबई के पूर्व संपादक प्रदीप सिंह कहते हैं कि संदीप दीक्षित यह सवाल उठाने वाले पहले नेता नहीं है। धीरे-धीरे कई लोग इस तरह की बात कर रहे हैं। कोई बोल रहा है, तो कोई चुप है। दीक्षित से पहले ज्योतिरादित्य सिंधिया और मनीष तिवारी जैसे युवा नेता पार्टी को उबारने के लिए कांग्रेस की लीडरशिप में बदलाव का सुझाव दे चुके हैं। पार्टी के कई नेता सीधे नहीं बोल रहे हैं, क्योंकि उन्हें बाहर किए जाने का खतरा है। राहुल गांधी को अध्यक्ष पद से हटाए जाने के बाद लोग तैयार थे कि …

Read More »

कचरा निपटाने के प्रति जागरूकता का अभाव, न तो आम जनता इसके प्रति गंभीर है और न ही नगर निगम

अपनी आंखें बंद कर एक बार जरा घर के डस्टबिन को याद करें तो सब्जियों के छिलके से लेकर प्लास्टिक की बोतलें, शैंपू की खाली बोतलें, बचा खाना, कांच के टुकड़े… सब कुछ एक ही डस्टबिन के अंदर नजर आएगा। मतलब सूखा और गीला कूड़ा का सारा कांसेप्ट प्रारंभिक स्तर पर ही फेल, जबकि जगह-जगह होर्डिंग और पोस्टर लगाकर लोगों को सूखा और गीला कूड़ा अलग करने का संदेश दिया गया। चौक-चौराहों पर हरे और नीले रंग के डस्टबिन भी लगाए गए, लेकिन नतीजा… सिफर। न तो लोगो की मानसिकता बदली न ही व्यवस्था में सुधार हुआ। आज भी गली के मुहाने पर कूड़े का अंबार, सड़कों पर बिखरा कूड़ा, शौचालयों की बदहाल स्थिति, गलियों में ओवरफ्लो नाले का पानी जैसी तस्वीर आम है। कितनी ही सरकारें आईं और गईं, पर दिल्ली स्वच्छ न हो सकी। एनसीआर की तस्वीर भी कुछ ऐसी ही है। हालांकि, आम आदमी पार्टी ने चुनाव से पूर्व अपने घोषणा पत्र में कहा है कि वह दिल्ली को साफ और स्वच्छ बनाने के लिए निगमों से इतर अपने स्तर पर भी काम करेगी। लेकिन, सवाल यह है …

Read More »